कनाडा में एक हफ्ते का PM बना 19 साल का भारतीय!



पंजाब के रहने वाले प्रभजोत लखनपाल यानी पीजे खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं। उसे भरोसा नहीं हो पा रहा है कि कनाडा का प्रधानमंत्री बनने का उसका सपना पूरा हो चुका है। ऐसे में वह खुद को चिमटी काटकर आश्वस्त होते हैं। क्यों बनाया एक हफ्ते का पीएम…

– ढाई साल पहले जब वह कैंसर से जूझ रहे थे तब उन्होंने कनाडा का पीएम बनने की इच्छा जताई थी।
– जब वह ठीक होकर घर लौटे तो यह बात भूल चुके थे, लेकिन ‘मेक अ विश’ फाउंडेशन को याद था।
– लिहाजा प्रभजोत को एक हफ्ते के लिए कनाडा का पीएम बनाया गया।
– उत्साहित पीजे बताते हैं, ‘एक हफ्ते के लिए पीएम के तौर पर ओटावा के पार्लियामेंट हिल पर जाना अद्भुत था।
– किसी और देश में ऐसा नहीं हो सकता। मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि ऐसा होगा।’
– वह भविष्य के बारे में बताते हैं, ‘मैं ओस्गुड हॉल लॉ स्कूल से पढ़ना चाहता हूं।
– मेरा लक्ष्य राजनेता बनना है जिससे मैं देशवासियों की सेवा कर सकूं।’

कहा- कैंसर से आगे भी लड़ता रहूंगा
मेक अ विश फाउंडेशन को धन्यवाद देते हुए प्रभजोत कहते हैं, ‘मैं कैंसर से लड़ा हूं। इससे बदतर कुछ भी नहीं हो सकता। आगे भी लड़ता रहूंगा।’ प्रभजोत के परिजन भारत में पंजाब के मंडी अहमदगढ़ में रहते थे। प्रभजोत के पिता सुरिंदर लखनपाल ऑटो मैकेनिक की दुकान चलाते हैं। वे 1988 में कनाडा आ गए थे। वे प्रभजोत की मां और बहन के साथ उसे लेकर टोरंटो पहुंचे। एयरपोर्ट पर आरसीएमपी के जवान, अफसरों व ‘मेक अ विश’ के अफसरों ने उनका स्वागत किया।

प्रेसिडेंशियल सुईट में ठहराया गया
– इसके बाद उसे पार्लियामेंट हिल के पास चतेऊ लॉरियर होटल ले जाया गया।
प्रभजोत को प्रेसिडेंशियल सुईट में ठहराया गया।
– सुरिंदर बताते हैं, ‘अगले दिन कैनेडा के गवर्नर जनरल डेविड जॉन्सटन ने पीजे का स्वागत किया।
– उन्होंने देश के विकास को लेकर उसके विचार भी जाने। पीएम जस्टिन त्रुदो भी उससे मिले।’
– हालांकि भारत में प्रभजोत के गांव में किसी को भी इस बारे में पता नहीं है।
– उसके अंकल बलवीर सिंह बताते हैं, ‘एक रिश्तेदार के जरिए हमें पता चला कि पीजे को एक हफ्ते के लिए पीएम बनाया गया है।’





LEAVE A REPLY