एशिया कप: पाक को रौंदकर बांग्लादेश ने मचाई सनसनी, फाइनल में भारत से टक्कर



bangladesh

मेजबान बांग्लादेश ने बुधवार को एशिया कप के रोमांचक ट्वेंटी20 क्रिकेट मैच में पाकिस्तान को पांच विकेट से पराजित कर फाइनल में प्रवेश किया जहां उसकी भिड़ंत रविवार (छह मार्च) को भारत से होगी.

टास जीतकर पहले बल्लेबाजी करने वाली पाकिस्तान टीम ने खराब शुरूआत से उबरते हुए सात विकेट पर 129 रन का स्कोर बनाया जो बांग्लादेश के खिलाफ उनका टी20 में न्यूनतम स्कोर भी है. इसके जवाब में बांग्लादेश ने 19.1 ओवर में पांच विकेट पर 131 रन बनाकर जीत दर्ज की.

पाकिस्तान को खराब गेंदबाजी और अंत में मोहम्मद समी की नो बाल का खमियाजा भुगतना पड़ा.

बांग्लादेश ने 18 ओवर में 112 रन बना लिये थे, उसे जीत के लिये 12 गेंद में 18 रन चाहिए थे. महमूदुल्लाह (नाबाद 22) और मशरफी मुर्तजा (नाबाद 12) क्रीज पर थे. 19वें ओवर में मोहम्मद समी की गेंदों पर 1, 1, 1, 2 (नोबाल), 1, 2, 4 (नोबाल), 1 से 15 रन बने. जिससे उन्हें जीत के लिये अंतिम ओवर में केवल तीन रन चाहिए थे. 20वें ओवर की पहली गेंद पर महमूदुल्लाह के चौके से स्टेडियम में बैठे दर्शक खुशी से झूमने लगे.

बांग्लादेश ने सलामी बल्लेबाज तमिम इकबाल के रूप में अपना पहला विकेट दूसरे ही ओवर में खो दिया, लेकिन सौम्य सरकार और शब्बीर रहमान ने नौंवे ओवर तक 46 रन जोड़ लिये थे कि मध्यक्रम बल्लेबाज शब्बीर रहमान (14) अफरीदी की गेंद को समझ नहीं सके और यह उनके स्टंप उखाड़कर चली गयी. इन दोनों ने 33 रन की भागीदारी की.

सौम्य सरकार डटे हुए थे, वह मुश्फिकर रहीम (12) के साथ 37 रन की साझेदारी कर चुके थे कि मोहम्मद आमिर की खूबसूरत यार्कर ने उनकी पारी का अंत कर दिया. सरकार ने 48 गेंद में पांच चौके और एक छक्के से 48 रन बनाये. मुश्किल रहीम भी ज्यादा देर नहीं टिक सके, उन्हें शोएब मलिक ने पगबाधा आउट किया.

पाकिस्तान की पारी

इससे पहले पाकिस्तानी कप्तान शाहिद अफरीदी ने टास जीतकर बल्लेबाजी का फैसला किया, लेकिन फिर से उनकी शुरूआत अच्छी नहीं रही. सलामी बल्लेबाज खुर्रम मंजूर दूसरे ही ओवर में अल अमीन हुसैन (35 रन देकर तीन विकेट) की गेंद पर विकेटकीपर के हाथों कैच आउट हुए. दूसरे सलामी बल्लेबाज शार्जील खान (10) अराफात सन्नी की गेंद पर बोल्ड होकर पवेलियन पहुंच गये, तब टीम का स्कोर 12 रन था. छह रन और जुड़े ही थे कि मोहम्मद हफीज पगबाधा आउट हुए. इस तरह पांच ओवर तक पाकिस्तानी टीम तीन विकेट गंवा चुकी थी.

सरफराज अहमद (नाबाद 58 रन, 42 गेंद में पांच चौके और दो छक्के) और उमर अकमल ने संभालने की कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हो सके. अकमल ने जैसे ही आक्रामकता दिखाने का प्रयास किया, विकेट गंवा बैठे. उन्होंने तास्किन अहमद (चार ओवर में एक मेडन, 14 रन देकर एक विकेट) की गेंद को डीप प्वाइंट की तरफ उठा दिया, गेंद शकिबुल हसन के हाथों में आने से पहले काफी देर हवा में रही.

इस तरह पाकिस्तान ने पहले 10 ओवर में चार विकेट खोकर 34 रन बनाये, जो सभी टी20 मैचों में उनका न्यूनतम स्कोर है. इससे पहले उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ विश्व टी20 2014 में इसी मैदान पर 35 रन बनाये थे. टीम ने 12.3 ओवर में 50 रन बनाये. शोएब मलिक :41 रन, 30 गेंद, पांच चौके और एक छक्का: और सरफराज ने फिर मिलकर पांचवें विकेट के लिये 8.2 ओवर में 70 रन की भागीदारी निभायी जो टीम को इस स्कोर तक पहुंचाने में अहम साबित हुई. अराफात सन्नी ने गेंदबाजी के कोण में थोड़ा बदलाव किया, जिससे उन्हें फायदा हुआ और मलिक ने इस पर बल्ला छुआ दिया और गेंद डीप मिडविकेट पर शब्बीर रहमान के हाथों में समां गयी.

कप्तान अफरीदी क्रीज पर उतरे, लेकिन खाता खोले बिना ही डगआउट में पहुंच गये. उन्हें अल अमीन हुसैन ने आउट किया. हुसैन की गेंद बल्ले को छूकर रहमान के हाथ में चली गयी. अनवर अली पारी की अंतिम गेंद पर हुसैन का तीसरा शिकार बने. रहमान ने शानदार क्षेत्ररक्षण का नमूना पेश किया, उन्होंने मलिक, अफरीदी और अनवर का कैच लपका.





LEAVE A REPLY