लुधियाना को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए ब्रिटिश कंपनियों ने दी प्रजेंटेशन



जिन-जिन खूबियों के साथ यूके को बेहतरीन पुलिस मैनेजमेंट, इंटेलीजेंट ट्रैफिक लाइट्स और जीआईएस (जियोग्राफिक इंफॉरमेशन सिस्टम) सिस्टम के तहत डेवलप किया गया है, उसी तर्ज पर लुधियाना को स्मार्ट सिटी बनाया जा सकता है। इसके लिए ब्रिटिश डिप्टी कमिश्नर डेविड इलियट ने नगर निगम को सहयोग देने के लिए हाथ आगे बढ़ाया है।
बुधवार को एक होटल में ब्रिटिश डिप्टी हाई कमिश्नर और नगर निगम के बीच राउंड टेबल सेशन का आयोजन किया गया था। इस सेशन में ब्रिटिश हाई कमिश्नर के साथ दो कंसल्टेंट कंपनियां भी साथ आई थीं। कंपनियों के प्रतिनिधियों ने 10-10 मिनट के सेशन में अपनी-अपनी कंपनी की महारत को निगम अफसरों के साथ सांझा किया। मौके पर मेयर हरचरण सिंह गोहलवड़िया, निगम कमिश्नर जीके सिंह, एडिशनल कमिश्नर घनश्याम थोरी, सीनियर डिप्टी मेयर सुनीता अग्रवाल, डिप्टी मेयर आरडी शर्मा के अलावा एईकॉम से विशाल कुंद्रा व निगम के अन्य अफसर शामिल हुए थे।
निगम ने बताए चैलेंज
निगम कमिश्नर जीके सिंह और फिर एडिशनल कमिश्नर घनश्याम थोरी ने सेशन में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट, एयर पॉल्यूशन, एलईडी लाइट्स में हो रही देरी सहित कई चैलेंज ब्रिटिश डिप्टी हाई कमिश्नर से सांझे किए। इसके बाद कंसल्टेंट कंपनियों के सेशन में नार्थ गेट पब्लिक सर्विस इंडिया के अजय मलिक ने विभिन्न प्रोजेक्टों में अपनी कंपनी की खूबियां बताई। इसमें पुलिस मॉडर्नाइजेशन सोल्यूशन, इंटेलिजेंस ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम, ऑटोमैटिक नंबर प्लेट, जीआईएस सिस्टम सहित कई अन्य लेटेस्ट सिस्टम के संबंध में बताया।




LEAVE A REPLY