बाइक रेसिंग बनी छात्र की मौत का कारण, एकछात्र का डीएमसी में चल रहा है इलाज



छात्र अपने माता-पिता के साथ झूठ बोल कर दोस्तों के साथ क्या करते है यह कोई भी छात्र अपने माता-पिता कोई नहीं बताता कई बार छात्रों द्वारा बोला गया झूठ परिवार के लिये दुखों का कारण बन जाता है ऐसा ही एक मामला देखने को मिला है जिसमें अपने माता- पिता को स्कूल जाने का बोल कर घर से निकले छात्र को अपनी जिंदगी से हाथ धोना पड़ा है दरअसल हिमाचल प्रदेश के अम्ब-हमीरपुर हाईवे पर कुठेड़ा खैरला में हुए सड़क हादसे में होशियारपुर के एक 10वीं के छात्र की मौत हो गई, जबकि एक अन्य गंभीर रूप से घायल हो गया। मृतक की पहचान समीर के रूप में हुई है।

परिजनों को इसकी जानकारी शाम को हुई है। सूचना के मुताबिक समीर अपने दोस्तों के साथ स्कूल से बंक मारकर हिमाचल स्थित महा कालेश्वर मंदिर गया था। उसके स्कूल के अन्य 10 बच्चे भी साथ गए हुए थे। वापस आते समय सभी बाइक रेसिंग करने लगे, जिससे यह हादसा हुआ। प्रत्यक्ष दर्शियों ने बताया कि नैहरियां की तरफ से किशोरों का ग्रुप रेस लगाते हुए आ रहा था। कि कुठेड़ा खैरला में एक मोड़ पर समीर नियंत्रण खोने से गिर गया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। एक अन्य छात्र दिव्यांश (16) भी गंभीर रूप से घायल हो गया, जिसका इलाज लुधियाना के डीएमसी में चल रहा है, जहां उसकी स्थिति नाजुक बनी हुई है।

अटेंडेंस रजिस्टर में प्रेजेंट हैं सभी बच्चे

इस हादसे में सबसे बड़ी लापरवाही स्कूल मैनेजमेंट की भी सामने आ रही है। सभी बच्चे विद्या मन्दिर स्कूल शिमला पहाड़ी के छात्र हैं। हैरानी की बात यह है कि अटेंडेंस रजिस्टर में सभी बच्चों की प्रेजेंट दर्ज हैं। हालांकि मामले पर स्कूल मैनेजमेंट कुछ भी बोलने से कतरा रहा है।

हॉस्पिटल से आया फोन तो चला पता : जितेंद्र गुप्ता

घायल दिव्यांश के पिता जितेंद्र गुप्ता ने बताया कि वह बेटे का इंतजार घर पर कर रहे थे, जब वह नहीं आया तो उन्हें चिंता हुई। उन्होंने बताया कि इस बीच अम्ब हॉस्पिटल से उन्हें फोन आया कि उनका बेटा दुर्घटना का शिकार हो चुका है। वह वहां पर पहुंचे तो दिव्यांश को लुधियाना रेफर किया गया, जहां उसकी टांग काटनी पड़ी। जितेंद्र ने बताया कि घटना बुधवार दोपहर दो बजे के आस-पास हुई। अन्य स्टूडेंट इतना डर गए कि उन्होंने इस बारे में किसी को बताया नहीं।

आगे पढें पूरी खबर 




LEAVE A REPLY