पलक झपकी तो लाइट बंद, पंखे को घूर कर देखा तो स्पीड बढ़ गई

0
27

रायपुर के पार्थ नागरिया ने एक अनोखी डिवाइस तैयार की है। यह डिवाइस आंखों के इशारों पर काम करती है। इसकी मदद से पलक झपकाकर लाइट, टेलीविजन ऑन-ऑफ कर सकते हैं। इसके अलावा पंखे को घूर कर देखने पर उसकी स्पीड भी कंट्रोल हो जाती है। किसी साइंस-फिक्शन मूवी का हिस्सा लगने वाले इस इनोवेशन को तैयार करने में पार्थ को 8 महीने का वक्त लगा।

नानी की परेशानी देख आया आइडिया…
रायपुर के इंद्रावती कॉलोनी में रहने वाले पार्थ ने साल भर पहले देखा कि उनकी बुजुर्ग नानी को लाइट्स ऑन-ऑफ करने में परेशानी होती थी।
– उन्होंने उनकी इस परेशान के लिए कुछ नया करने की ठानी।
– वे कहते हैं अब किसी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण को चालू या बंद करने के लिए उसके पास जाने की जरूरत नहीं।
– फिलहाल ये प्रोटो टाइप डिवाइस है। इसे और बेहतर बनाकर पार्थ इसके सेंसर को चश्मे के बीचों-बीच फिट करने की तैयारी मे हैं।
– इसे बनाने में पार्थ के 20 से 25 हजार रुपए खर्च हुए हैं। वे कहते हैं कि इसे यदि ज्यादा मात्रा में लोगों के इस्तेमाल के लिए बनाया जाए तो इसकी कास्ट घटकर ढाई से तीन हजार तक हो सकती है।
– उम्र दराज लोगों और विकलांगों के लिए ये बेहद काम की चीज है।
– यह छत्तीसगढ़ का ऐसा पहला डिवाइस है।
डिवाइस ऐसे करती है काम
इस मशीन को ऐसे डिजाइन किया गया है जो दिमाग से निकलने वाले न्यूरॉन्स को इलेक्ट्रिक सिग्नल्स में कन्वर्ट कर ऑर्डर लेता है। इन्होंने मशीन में दो तरह के प्रोटोकॉल सेट किए हैं। पहला है पलकों का झपकना इससे मशीन ऑन ऑफ होगी। दूसरा है कांसन्ट्रेट करना ताकि लाइट्स का वोल्टेज और पंखे या एसी की स्पीड को कंट्रोल किया जा सके। उन्होंने इस डिवाइस को पेटेंट के लिए भी भेजा है।

LEAVE A REPLY