इंटेल इंडिया और पेटीएम मॉल ने लुधियाना के एमएसएमई में पीसी की ताकत की पेशकश की


Program organised by Intel India and Paytm Mall in Ludhiana

लुधियाना – इंटेल इंडिया ने आज भारत के सबसे तेजी से विकसित हो रहे ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पेटीएम मॉल के साथ साझेदारी कर पीसी (पर्सनल कम्प्यूटर्स) की अहमियत पर रौशनी डाली। लुधियाना में आयोजित इस कार्यक्रम में इंटेल ने बताया कि लुधियाना में पीसी’ज किस तरह से न सिर्फ मध्यम, लघु और सूक्ष्म उद्यमों (एमएसएमई) को जीएसटी का अनुपालन करने में सक्षम बना सकते हैं, बल्कि उन्हें अधिक उत्पादक बनने में भी मदद कर सकते हैं। एक ओर जहां, इंटेल ने ऑटो पार्ट्स, साइकिल उत्पादन, गार्मेंट्स और एपरेल में शहर के उभरते एमएसएमई इंडस्ट्री के लिये पीसी‘ज के फायदों को प्रदर्शित किया। वहीं दूसरी ओर पेटीएममॉल ने इस बात पर फॉक्स किया कि इसके द्वारा किस तरह क्वालिटी टेक्नोलॉजी उत्पादों को बेहद आसान तरीके से भारतीयों के लिये सुलभ बनाया जा रहा है।

भारत के 51 मिलियन एमएसएमई देश की जीडीपी में लगभग 37% का योगदान करते हैं और इन उद्यमों में पीसी को अपनाये जाने से उन्हें डिजिटल युग में बड़े पैमाने पर विस्तार करने में सक्षम बनाया जा सकता है। इसे वास्तविकता में बदलने के लिये इंटेल इंडिया ने इकोसिस्टम के साथ सहयोग किया है। इनमें एसर, डेल, लेनोवो, हेवलेट-पैकार्ड, आइबॉल’ शामिल हैं। इस सहयोग के जरिये, जीएसटी सॉफ्टवेयर से युक्त उपकरणों को शहर में स्थानीय व्यावसायों के लिये उपलब्ध बनाया जायेगा। कंपनी लुधियाना में इनमें से कई उपकरणों को ग्राहकों के लिये उपलब्ध कराने के लिये पेटीएम मॉल के साथ काम भी कर रही है। इस बात को समझते हुये कि बिजनेस किस तरह से जीएसटी अंतरण को मैनेज कर सकते हैं और अपने व्यावसाय को उन्नत बनाने के लिये पीसी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं, शहर में आयोजित हुये सत्र में इस बात पर फोकस किया गया कि किस तरह से पीसी द्वारा जीएसटी प्रक्रियाओं को आसान बनाया जा सकता है। इनमें शीट्स को बैलेंस करना एवं क्रेडिट की गणना करना और व्यावसाय संबंधित गोपनीय सूचनाओं को सुरक्षित रखना शामिल हैं। इंटेल ने यह भी दिखाया कि नये पीसी किस तरह से परिचालनों को बढ़ाने और हैवी-ड्यूटी टास्क को पूरा करने में मदद कर एमएसएमई के लिये उत्पादकता को बेहतर बना सकते हैं।

हाल ही में की गई एक स्टडी के परिणामों पर प्रकाश डालते हुये इंटेल ने कहा कि एमएसएमई कर्मचारी पांच साल से अधिक के पीसी पर 28% कम उत्पादक होते हैं और इसलिये उपकरण से जुड़े खर्चों एवं चुनौतियों पर उन्हें 1.87 लाख रूपये तक खर्च करना पड़ा है। इन पुराने उपकरणों के कारण प्रति कर्मचारी हर साल 11 घंटों तक का समय बर्बाद होता है, जोकि लंबे गैर-उपयोगी बूट-अप टाइम में लगता है। राहुल मल्होत्रा, डायरेक्टर-रिटेल, इंटेल इंडिया ने कहा, हमारा लक्ष्य एमएसएमई को झंझट-मुक्त जीएसटी अनुभव प्राप्त करने और तकनीक का इस्तेमाल कर अपनी उत्पादकता एवं व्यावसायिक अवसरों को बेहतर बनाने में सक्षम बनाना भी है। इन कंपनियों को खुद को भविष्य के लिये अवश्य सुरक्षित करना चाहिये। हमें टैक्स का भुगतान कर रहे एमएसएमई को जीएसटी प्रणाली में आसानी से रूख करने के फायदों को समझने में सक्षम बनाकर खुशी हो रही है। साथ ही हम उन्हें उनके व्यावसाय के डिजिटलीकरण के लाभों के बारे में भी बता रहे हैं। हमने पेटीएम सहित टेक्नोलॉजी इकोसिस्टम के साथ काम किया है, ताकि इंटेल पावर्ड उपकरणों को ग्राहकों के लिये अधिक सुलभ बनाया जा सके।

अमित बागरिया, वाइस प्रेसिडेंट, पेटीएम मॉल ने कहा, भारत का बढ़ता व्यावसाय देश की अर्थव्यवस्था का आधार है। हम प्रत्येक बिजनेस ओनर को ऐसे लागत प्रभावी तकनीकी समाधानों को प्राप्त करने में मदद करना चाहते हैं, जो प्रक्रियाओं को आसान बनाते हों तथा अधिक दक्षता प्रदान कर सकें। इस रूपांतरण को अभिप्रेरित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिये हम रोमांचित हैं। अमेज़न, स्नैपडील, फ्लिपकार्ट, शॉपक्लूज़, रिलायंस डिजिटल और क्रोमा सहित ई-कॉमर्स एवं रिटेल स्टोर्स द्वारा इंटेल पावर्ड पीसी पर जीएसटी युक्त ऑफर्स की पेशकश भी की जा रही है। ये उनकी उत्पादकता एवं दक्षता को बढ़ाकर व्यावसायों को उनका सुचारू परिचालन करने में सक्षम बना रहे हैं।

  • 231
    Shares

LEAVE A REPLY