भारी बर्फबारी के कारण बंद हुआ रोहतांग दर्रा, मनाली-केलांग मार्ग में वाहनों की आवाजाही हुई बंद – पांगी शेष विश्व से कटा


हिमाचल के ऊंचे पर्वतीय क्षेत्रों में हुई बर्फबारी के बाद प्रदेश में ठंड ने दस्तक दे दी है। गुरुवार को रोहतांग दर्रे में सुबह से हो रही बर्फबारी से मनाली-केलांग मार्ग में वाहनों की आवाजाही बंद हो गई है। लेह मार्ग को प्रशासन ने पहले ही बंद कर दिया है। घाटी में बस सेवा भी प्रभावित हो गई है। पांगी घाटी में भी बर्फबारी होने के चलते एक बार फिर से पांगी का शेष विश्व के साथ सड़क संपर्क कट गया है। यही नहीं, पांगी घाटी मुख्यालय किलाड़ के साथ उसकी 18 पंचायतों का भी सड़क संपर्क पूरी तरह से कट गया है। पर्यटन नगरी मनाली में सुबह से भारी बारिश हो रही है, जिससे जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है।

सैलनियों को गुलाबा बैरियर पर रोका गया

मौसम के हालात को देखते हुए प्रशासन ने रोहतांग दर्रा भी सैलनियों के लिए बंद कर दिया है। बर्फबारी देखने गए सैलनियों को गुलाबा बैरियर पर रोक दिया गया है। गुलाबा में हो रही बर्फबारी का सैलानी खूब आनंद ले रहे हैं। प्रशासन की मानें तो अब रोहतांग दर्रे में वाहनों की आवाजाही मौसम पर ही निर्भर रहेगी। मौसम खराब होने की सूरत में सैलानी गुलाबा तक ही जा सकेंगे। रोहतांग दर्रे सहित हामटा, हनुमान टीबा, इंद्र किला, धुंधी जोत, मकरवेद, शिकरवेद, भृगु व डशोहर की पहाडिय़ों तथा चंद्रखणी जोत सहित समस्त ऊंची चोटियों पर बर्फ के फाहे गिरने का क्रम शुरू हो गया है।

साच पास पर हुई एक फुट से अधिक बर्फबारी

पांगी घाटी की बाते करें तो मुख्यालय किलाड़ में 2 से 3 इंच तक ताजा हिमपात दर्ज हुआ है। पांगी-चम्बा को आपस में जोडऩे वाला सबसे नजदीकी सड़क मार्ग एक बार फिर से बर्फबारी की वजह से बंद हो गया है। बताया जा रहा है कि साच पास पर एक फुट से अधिक बर्फ गिरी है। ऐसे में, फिर से इस मार्ग को वाहनों की आवाजाही के लिए खोलने में लोक निर्माण विभाग, पांगी को कई दिन लग सकते हैं। भरमौर उपमंडल के ऊपरी पर्वतों पर भारी बर्फबारी हुई है। मणिमहेश डल झील पर 2 फुट बर्फ गिरने की बात कही जा रही है। भरमौर उपमंडल के सभी ऊंचे पहाड़ों पर बर्फ गिरने के चलते निचले क्षेत्रों में कड़ाके की ठंड पड़ रही है।

Heavy Snowfall in Pangi

पहाड़ों पर हुई बर्फबारी ने बढ़ाईं किसानों की दिक्कतें

बर्फबारी की वजह से लाहौल व पांगी घाटी के किसानों की दिक्कतें बढ़ गई हैं। लाहौल में आलू की 40 प्रतिशत फसल अभी मंडियों में भेजनी शेष रह गई है। एस.डी.एम. मनाली रमन घरसंगी ने बताया कि रोहतांग जा रहे सभी पर्यटकों को गुलाबा में रोक दिया गया है। अब रोहतांग जाने वाले सैलानियों की आवाजाही मौसम पर निर्भर रहेगी। डी.सी. लाहौल अश्विनी कुमार चौधरी ने लोगों से आग्रह किया है कि मौसम को देखते हुए फिलहाल सफर करने से परहेज करें।

कांगड़ा में आसमानी बिजली गिरने से बिजली उपकरण जले

वहीं, कांगड़ा जिला में विद्युत विभाग उपमंडल रैहन के गांव छतर झिकला के वार्ड नं.-7 में अचानक आसमानी बिजली गिरने से करीब एक दर्जन घरों के बिजली उपकरण और घरों की वायरिंग जल गई है। जिले की धौलाधार पहाड़ियों पर भी हिमपात हुआ है।

  • 719
    Shares

LEAVE A REPLY