अगर आप बनाने जा रहे है नया घर तो आपको रखनी होगी पार्किंग साइट, लोकल बॉडीज डिपार्टमेंट ने किया बिल्डिंग बायलॉज तैयार


Car Parked on Road

अगर अब आप नया घर बनाने की सोच रहे हैं तो ध्यान रखें कि उसमें पार्किंग के लिए भी जगह रखनी होगी। अगर बिल्डिंग प्लान में वाहन पार्किंग के लिए जगह नहीं रखी तो नगर निगम या नगर कौंसिल प्लान को मंजूरी नहीं देगा। लोकल बॉडीज डिपार्टमेंट ने नए बिल्डिंग बायलॉज तैयार किए हैं, जिसके तहत हर घर में वाहनों के पार्किंग के लिए स्पेस रखना जरूरी होगा। पार्किंग स्पेस प्लॉट के साइज के हिसाब से तय किया गया है। इस संबंध में लोकल बॉडीज डिपार्टमेंट के प्रिंसिपल सेक्रेटरी ने नोटिफिकेशन भी जारी कर दी। नगर निगम, नगर कौंसिल या नगर पंचायत क्षेत्रों में घरों के निर्माण के लिए जो नए बिल्डिंग बायलॉज तय किए गए हैं उसमें पार्किंग पर विशेष जोर दिया गया है। लोकल बॉडीज डिपार्टमेंट ने बिल्डिंग बायलॉज पहली बार रेजिडेंशियल निर्माणों के लिए पार्किंग की शर्त रखी है। नए बायलॉज के मुताबिक रेजिडेंशियल, कमर्शियल समेत अलग-अलग कैटेगिरी के निर्माणों के लिए पार्किंग स्पेस रखने के मापदंड तय किए गए हैं।

इससे पहले विभाग ने जब पार्किंग पॉलिसी जारी की थी, उसमें भी कहा गया था कि अगर कोई घर के बाहर भी वाहन पार्क करता है तो उसे पार्किंग फीस देनी होगी। हालांकि पार्किंग पॉलिसी अभी सूबे में लागू नहीं हो सकी, लेकिन नए बिल्डिंग बायलॉज नए निर्माणों पर पूरी तरह से लागू होंगे। अगर कोई व्यक्ति 100 वर्ग मीटर तक के प्लाट में घर बनाता है तो उसे घर में दो दोपहिया वाहनों के लिए जगह रखनी होगी। वहीं 100 वर्ग मीटर से ज्यादा 150 वर्ग मीटर तक के घर में एक कार, 150 से ज्यादा और 200 वर्ग मीटर तक के घर में दो कारों और इससे अधिक जगह में बनने वाले घरों में तीन कारों के लिए पार्किंग स्पेस होना जरूरी है। इसे बिल्डिंग प्लान में भी दर्शाना होगा। बिना इसके प्लान को मंजूरी नहीं दी जाएगी।

फ्लैट बनाने वालों को भी फ्लोर एरिया के हिसाब से पार्किंग व्यवस्था करनी होगी। नए मापदंडों के हिसाब से 120 वर्ग मीटर तक के फ्लोर एरिया वाले फ्लैट के लिए 1.5 कारों के एरिया के बराबर पार्किंग रखनी होगी। 120 से 300 वर्ग मीटर एरिया के लिए दो कारों की पार्किंग और इससे ज्यादा एरिया के लिए तीन कारों की पार्किंग रखनी जरूरी है।

एक कार के लिए चाहिए 22.17 वर्ग मीटर जगह

लोकल बॉडीज डिपार्टमेंट की तरफ से जो बिल्डिंग बायलॉज जारी किए गए हैं उसमें प्लॉट एरिया के हिसाब से कार पार्किंग तय की गई है। अगर 150 वर्ग मीटर तक में घर बना रहे हैं तो एक कार पार्क करने के लिए 22.17 वर्ग मीटर यानि 26.5 वर्ग गज जगह छोडऩी होगी। 200 वर्ग मीटर वाले को 44.34 वर्ग मीटर यानि 53 वर्ग गज जगह पार्किंग के लिए रखनी होगी।

प्लॉट एरिया के हिसाब से होगा पार्किंग स्पेस

अगर कोई व्यक्ति 100 वर्ग मीटर तक के प्लाट में घर बनाता है तो उसे घर में दो दोपहिया वाहनों के लिए जगह रखनी होगी। वहीं 100 वर्ग मीटर से ज्यादा 150 वर्ग मीटर तक के घर में एक कार, 150 से ज्यादा और 200 वर्ग मीटर तक के घर में दो कारों और इससे अधिक जगह में बनने वाले घरों में तीन कारों के लिए पार्किंग स्पेस होना जरूरी है। इसे बिल्डिंग प्लान में भी दर्शाना होगा। बिना इसके प्लान को मंजूरी नहीं दी जाएगी।

रेजिडेंशियल इंडिपेंडेंट फ्लोर एरिया के लिए भी पार्किंग जरूरी

फ्लैट बनाने वालों को भी फ्लोर एरिया के हिसाब से पार्किंग व्यवस्था करनी होगी। नए मापदंडों के हिसाब से 120 वर्ग मीटर तक के फ्लोर एरिया वाले फ्लैट के लिए 1.5 कारों के एरिया के बराबर पार्किंग रखनी होगी। 120 से 300 वर्ग मीटर एरिया के लिए दो कारों की पार्किंग और इससे ज्यादा एरिया के लिए तीन कारों की पार्किंग रखनी जरूरी है।

एक कार के लिए चाहिए 22.17 वर्ग मीटर जगह

लोकल बॉडीज डिपार्टमेंट की तरफ से जो बिल्डिंग बायलॉज जारी किए गए हैं उसमें प्लॉट एरिया के हिसाब से कार पार्किंग तय की गई है। अगर 150 वर्ग मीटर तक में घर बना रहे हैं तो एक कार पार्क करने के लिए 22.17 वर्ग मीटर यानि 26.5 वर्ग गज जगह छोडऩी होगी। 200 वर्ग मीटर वाले को 44.34 वर्ग मीटर यानि 53 वर्ग गज जगह पार्किंग के लिए रखनी होगी।

होटल, क्लब व अन्य के लिए भी रखनी होगी पार्किंग साइट

होटल के लिए पार्किंग साइट कवर्ड एरिया के हिसाब से तय होगी। होटल व क्लब को प्रति सौ वर्ग मीटर कवर्ड एरिया के लिए दो कारों की पार्किंग रखनी जरूरी होगी। इसी तरह ऑफिस साइट्स के लिए भी पार्किंग स्पेस रखना जरूरी होगा।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY