विजीलैंस विभाग की छापेमारी के दौरान फिरोज़पुर में अवैध ढंग से भंडार किए गए चावलों के 91000 थैले बरामद


91000 Bags of Illegal Stored rice Seized by Vigilance Department in Raid at Ferozepur

सार्वजनिक वितरण प्रणाली के द्वारा गरीबों को बांटने के लिए आरक्षित रखे जाने वाले चावलों की रिसाइक्लिंग का सख्त नोटिस लेते हुए खाद्य एवं सिविल सप्लाई मंत्री भारत भूषण आशु ने फिरोजपुर में 10 चावल मिलों में अचानक छापेमारी करने के आदेश दिए। जिसके बाद की गई छापेमारी के दौरान इलाके की 4 मिलों में से चावल के 91000 थैले बरामद किए गए हैं।

मुख्य विजीलैंस के नेतृत्व में की गई छापेमारी के दौरान महालक्ष्मी चावल मिल फिरोजपुर ने पिछले साल के 110000 पैडी थैले जो कि चावलों के 55275 थैलों के बराबर हैं, सेरेल फूड एक्सपोर्टस फिरोजपुर ने 58000 पैडी थैले जो कि 29145 चावलों के थैलों के बराबर हैं और फिरोजपुर फूड एक्सपोर्टस ने चावलों के 2700 थैले जब कि श्रीशाम जी इंडस्ट्रीज बरनाला ने 1200 चावलों के थैले अवैध ढंग से स्टोर किए हुए पाए गए हैं। स्पष्ट है कि इन चावल मिलों ने निश्चित रूप से पिछले साल दूसरे राज्यों से ब्लैक मार्केट में लाए जाते पी.डी.एस राइस की खरीद की थी जिससे इसकी आने वाले मिलिंग सीजन में नकली बिलों के जरिए फसल की अतिरिक्त खरीद दिखाकर फिर बिक्री की जा सके।

इस बड़े घपले को बेनकाब करते हुए मंत्री ने खाद्य और सिविल सप्लाई विभाग को और चौकस रहने के आदेश दिए तथा कहा कि सूबे में ऐसी नकली बिलिंग की किसी भी कीमत पर आज्ञा नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व वाली सरकार ऐसे चालबाज व्यक्तियों को अपनी भ्रष्ट गतिविधियों के साथ सूबे को किसी भी कीमत पर वित्तीय नुक्सान नहीं पहुंचाने देगी। उन्होंने कहा कि विभाग ने इस दिशा में पहले ही कई संशोधन लागू किए हैं जैसे कि मिल की अलॉटमैंट और विभाग के हितों की सुरक्षा के लिए मिलरों से बैंक गारंटी लेने के लिए सी.आई.बी.आई.एल स्कोर मापदंड निर्धारित किया है। इस दौरान विभाग ने गैर सामाजिक मिल्लरों संबंधी जानकारी कानून के अनुसार अपेक्षित कार्यवाही करने के लिए मंडी बोर्ड और सैल्ज टैक्स डिपार्टमैंट को सौंप दी है। ऐसी भ्रष्ट गतिविधियों में शामिल मिल्लरों की रजिस्ट्रेशन रद्द करने के लिए भी विभाग विचार कर रहा है।

  • 719
    Shares

LEAVE A REPLY