जालंधर बाईपास चौक के पास पैट्रोल में पानी मिक्स होने की शिकायत पर पैट्रोल पंप की हुई चैकिंग – जांच में हुआ यह खुलासा


Petrol Pump Checkin

जालंधर बाईपास चौक के नजदीक पड़ते हिंदुस्तान पैट्रोलियम कंपनी से संबंधित एक पैट्रोल पंप पर आज खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के कर्मचारियों ने ए.एफ.एस.ओ. मैडम नवनीत कौर की अध्यक्षता में पैट्रोल में पानी मिक्स होने की शिकायत के आधार पर चैकिंग की।

इस दौरान जांच टीम में शामिल विभागीय इंस्पैक्टर चरणप्रीत सिंह व ए.एफ.एस.ओ. मैडम नवनीत कौर ने पैट्रोल पंप पर कंपनी द्वारा मुहैया करवाए गए 5 लीटर वाले जार (पैमाने) व मशीन के नाप तोल के मिलान सहित पैट्रोल टैंक की भी जांच की व मौके पर मौजूद पंप पर तेल भरवाने पहुंचे वाहन चालकों के बयान भी कलम बंद किए। वहीं इस दौरान शिकायतकत्र्ताओं ने अपने साथियों सहित पैट्रोल पंप प्रबंधकों के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कई प्रकार के कथित गंभीर आरोप लगाए हैं। इलाका पार्षद गुरचरण सिंह दीपा के मुताबिक हालांकि उन्होने इस संबंध में विभागीय अधिकारियों को करीब 3-4 दिन पहले शिकायत की थी, लेकिन विभाग ने जानबुझ कर चैकिंग में देरी की है।

मौके पर मौजूद 2 विभिन्न शिकायतकर्ताओं नगीना राम व बलविन्द्र सिंह के मुताबिक उन्होंने 3 दिन पहले जस्सियां चौक नजदीक पड़ते पैट्रोल पंप से अपनी बाइक्स में तेल भरवाया था, लेकिन इस दौरान उनकी बाइक कुछ दूरी तक चलने के बाद झटके मारने लगी।शिकायतकर्ता के मुताबिक जब उन्होंने अपनी बाईक मैकेनिक को चैक करवाई तो टैंकी में पैट्रोल के साथ कथित पानी मिक्स होने की बात बताते हुए मैकेनिक ने टंकी से बोतल में पानी मिक्स तेल निकालकर दिखाया व इस संबंध में उन्होंने पैट्रोल पंप कर्मचारियों द्वारा कोई सुनवाई न होने का दावा करते हुए इलाका पार्षद को जानकारी दी, जिसके बाद पार्षद दीपा ने विभाग के कंट्रोलर सुरिन्द्र कुमार बेरी को मामले संबंधी फोन पर जानकारी दी।

जांच दौरान ऐसा कुछ नहीं मिला, जोआरोपों को सिद्ध करता हो : अधिकारी

इस संबंध में बातचीत करते हुए जांच अधिकारी ए.एफ.एस. ओ. नवनीत कौर ने बताया कि उन्होने शिकायत के आधार पर उक्त पैट्रोल पंप की जांच पड़ताल की है। वह मौके पर मौजूद वाहन चालकों के बयान भी दर्ज किए हैं, लेकिन इस दौरान ऐसा कुछ भी सामने नहीं आया है। जैसा शिकायतकत्र्ताओं द्वारा आरोप लगाए गए हैं। उन्होंने बताया कि उनकी टीम ने पैट्रोल पंप की विभिन्न मशीनों की नोजलों सहित सल्योशन (यंत्रो) से पैट्रोल टैंक की भी जांच की है, लेकिन पैट्रोल में न तो पानी मिक्स की बात सामने आई है और न ही तेल कम भरने संबंधी कोई तथ्य सामने आए हैं, जिससे शिकायतकत्र्ताओं द्वारा लगाए गए आरोपों पर मोहर लगाई जा सके। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा उन्हें विभागीय अधिकारी ने कल शाम को ही शिकायत ट्रांसफर की है और आज सुबह ही उनकी टीम ने मौके पर पहुंच कर पंप की चैकिंग शुरू कर दी।

पैट्रोल में पानी मिक्स होना नामुमकिन बात : सेल्ज अफसर

ङ्क्षहदुस्तान पैट्रोलियम कंपनी के सेल्ज अफसर नीतिन श्रीवास्तव ने इस संबंध में बात करने पर कहा कि इस संबंध में मेरे पास कोई शिकायत नहीं आई है, लेकिन मुझे पता चला है कि उक्त पंप पर खाद्य सप्लाई विभाग द्वारा आज चैकिंग की गई है। मैं नहीं समझता कि कोई भी डीलर पैट्रोल में पानी मिक्स का सकता है, क्योंकि यह नामुमकिन बात है। जांच टीम ने उक्त मामले पर पूरी तसल्ली कर ली है। इस दौरान ऐसा कुछ भी मौके पर नहीं मिला है। फिर भी कंपनी अपने तौर पर चैकिंग करेगी।माहिरों के मुताबिक तेल कंपनियों द्वारा पैट्रोल में प्रति लीटर 10 फीसदी एथनोल मिक्स किया जाता है, जो पानी के संपर्क में आते ही पैट्रोल को पानी के रूप में बदल देता है। ऐसे में संभव है कि जब वाहन को धोने पर अथवा बरसात पडऩे पर टैंकी में पानी की कुछ बुंदे चली जाए तो टैंक में पड़ पैट्रोल पानी बन सकता है, इसलिए इस मामले में भी ऐसा होने के इंकार नहीं किया जा सकता है।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY