पंजाब के मुख्यमंत्री सहित दिल्ली के मुख्यमंत्री ने की केरल को 10 करोड़ रुपए देने की घोषणा


पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बाढ़ग्रस्त केरल के लिए दस करोड़ रूपए की तत्काल सहायता मुहैया कराने का ऐलान किया है। सरकारी बयान में कहा गया है कि पांच करोड़ रूपए पंजाब मुख्यमंत्री राहत कोष से केरल मुख्यमंत्री राहत कोष में अंतरण किया जा रहा है। इसमें कहा गया है कि बाकी पांच करोड़ रूपए की तैयार खाद्य सामग्री जैसे बिस्कुट, रस्क आदि और अन्य जरूरत की चीजें होंगी। रक्षा मंत्रालय की मदद से इन सामग्रियों को वहां भेजा जाएगा। वहीं केजरीवाल ने लोगों से संकट में फंसे राज्य के लिए उदारतापूर्वक दान करने की अपील की है। उन्होंने केरल के मुख्यमंत्री से भी बातचीत की है। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर कहा मैंने केरल के मुख्यमंत्री से बातचीत की। दिल्ली सरकार 10 करोड़ रुपए का योगदान कर रही है। मैं सभी से केरल के अपने भाइयों और बहनों के लिए उदारतापूर्वक दान करने की अपील करता हूं। दिन में पंजाब सरकार ने भी केरल के लिए 10 करोड़ रुपए की सहायता की घोषणा की थी। पंजाब सरकार के बयान के अनुसार तुरंत खाने योग्य 30 टन खाद्य सामग्री केरल भेजी जाएगी। केरल पिछले एक सदी में सबसे भयंकर बाढ़ से जूझ रहा है। बता दें कि केरल में लगातार बारिश के कारण आई प्रलंयकारी बाढ़ के कहर से अब तक 324 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है और 2,875 लोग बेघर हो गए हैं। वहीं भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने केरल के कोल्लम, पथनमथिट्टा, कोट्टायम, इडुकी, एर्नाकुलम, पलक्कड़, कोझिकोड और वायनाड जिलों में 17 और 18 अगस्त को भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है।

केरल में हुए नुकसान पर एक नजरः

– राजस्व विभाग की ओर से जारी आंकड़े के अनुसार राज्य को कुल 68.27 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है।
– मकानों के ध्वस्त होने से 13.09 करोड़ रुपए और फसलों के बरबाद होने से 55.18 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है।
– सूत्रों ने बताया कि राज्य के अलग-अलग हिस्सों में गुरुवार की शाम तक करीब 331 मकान पूरी तरह और 2526 मकान आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए जबकि 3393.3200 हेक्टेयर क्षेत्र में लगी फसल नष्ट हो गई।
– बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से कम से कम 52,856 परिवारों के 2.23 लाख लोगों को सुरक्षित 1568 शिविरों में पहुंचाया गया है।
– इडुक्की, वायनाड और मल्लापुरम जिले इस प्राकृतिक आपदा से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं जहां भूस्खलन की सबसे अधिक घटनाएं हुई हैं और सर्वाधिक संख्यामें लोगों की मौत हुई है।
– इस प्राकृतिक आपदा के कारण लोगों का जीवन बेहाल है। ग्यारह लोग लापता हैं और 41 लोग घायल हो चुके हैं।

 

  • 288
    Shares

LEAVE A REPLY