कूड़े की लिफ्टिंग न होने पर कमिश्नर ने दिए सख्त निर्देश


लुधियाना – नगर निगम कमिश्नर के पी बराड़ ने शहर में कूड़े की लिफ्टिंग ठीक ढंग से न होने संबंधी समस्या का गंभीर नोटिस लिया है। इसके तहत ए टू जैड कंपनी को जुर्माना लगाने के निर्देश जारी किए गए हैं। कमिश्नर द्वारा बुलाई गई मीटिंग में हैल्थ ब्रांच के अफसरों से जब सड़कों किनारे कूड़ा जमा रहने की समस्या बारे जवाबतलबी की गई तो उन्होंने ए टू जैड कंपनी पर ठीकरा फोड़ दिया। यहां तक कि तय शैड्यूल के मुताबिक कूड़े की लिफ्टिंग न होने बारे रिपोर्ट भेजने के बावजूद कंपनी पर कोई कार्रवाई न होने का मुद्दा भी उठाया।कमिश्नर ने कहा कि कूड़े की लिफ्टिंग का शैड्यूल बनाने को कहा और उसके मुताबिक काम न होने पर कंपनी को जुर्माना लगाने के निर्देश दिए। हालांकि सैनेटरी इंस्पैक्टरों ने कूड़े की लिफ्टिंग की समस्या के हल के लिए कंटेनर प्वाइंट पक्के करवाने व फील्ड स्टाफ को रेहड़े लेकर देने की मांग भी कमिश्नर के सामने रखी।

चालानों के निपटारे संबंधी सिस्टम की दूर होंगी खामियां
कमिश्नर ने हैल्थ ब्रांच द्वारा जारी किए जाने वाले चालानों को लेकर भी रिव्यू किया। यह चालान गंदगी फैलाने, सड़क पर मलबा रखने, दूषित खाद्य पदार्थ बेचने वालों के किए जाते हैं। इसे लेकर कमिश्नर ने कहा कि चालानों के निपटारे संबंधी सिस्टम की खामियां दूर की जाए। इसमें यह पहलू चैक किया जाए कि चालान का जुर्माना जमा हो रहा है या नहीं।

निगम मुलाजिमों ने मैकेनिकल स्वीपिंग को बताया गैर जरूरी
अकाली-भाजपा सरकार के समय शुरू हुई मैकेनिकल स्वीपिंग पर पहले ही दिन से सवाल उठ रहे हैं। यहां तक कि बिना काम किए बिल बनाकर पेमैंट लेने के चर्चे भी सुनने को मिल रहे हैं। यही वजह है कि कमीशन लेने के लिए मैकेनिकल स्वीपिंग के चार्ज को लेकर हैल्थ व बी एंड आर ब्रांच के अफसरों में विवाद हो चुका है। अब कमिश्नर ने हैल्थ ब्रांच के स्टाफ से फीडबैक मांगा तो उन्होंने यह कहकर मैकेनिकल स्वीपिंग को गैर जरूरी बताया है कि उससे अच्छी सफाई तो मुलाजिमों द्वारा मैनुयल तौर पर की जा रही थी।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY