बुराड़ी केस में क्राइम ब्रांच को मिला अहम सुराग


burari family death case

उत्‍तरी दिल्‍ली के बुराड़ी इलाके में एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत का रहस्‍य अब तक नहीं सुलझा है. अब तक की तहकीकात में यही संकेत मिल रहा है कि भाटिया परिवार साझा मनोविकृति (psychotic disorder) से ग्रस्त हो सकता है. इस परिवार के 11 सदस्य मृत पाये गए थे. अब इस केस में भी सुनंदा पुष्‍कर और आरुषि हत्‍याकांड की तरह पुलिस साइकोलॉजिकल ऑटोपसी (psychological autopsy) का सहारा ले सकती है. पड़ोसियों का कहना है कि इस परिवार के सदस्य काफी मददगार थे. हालांकि वे अपने परिवार के सदस्यों के बारे में कभी भी बात नहीं करते थे. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि परिवार में साझा मनोविकृति के लक्षण दिखाई दिए हैं.

क्‍या होती है साझा मनोविकृति

पुलिस अफसर के मुताबिक,’साझा मनोविकृति का मतलब है कि भ्रमपूर्ण मान्यताओं को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में प्रेषित किया जाता है. इस मामले में आशंका यह है कि ललित भाटिया (45) एक ऐसे व्यक्ति थे जिन्हें अपनी मृत्यु के बाद अपने पिता से बात करने का भ्रम था. उसके विश्वास को परिवार के अन्य सदस्यों ने समर्थन भी दिया था.’

4 महीने पहले लगवाए थे 11 पाइप

भाटिया परिवार के मकान की दीवार के एक तरफ लगे संदिग्ध 11 पाइपों के बारे में बात करते हुए पड़ोसियों ने कहा कि उन्होंने इन पाइपों को तीन से चार महीने पहले लगवाया था. भाटिया परिवार के साथ अक्सर गुरुद्वारा जाने वाली एक वृद्ध महिला ने कहा कि वह कभी भी उनके घर नहीं गई थी. उन्होंने कहा,’हम उनकी किराने की दुकान पर घर का सामान खरीदने जाते थे और अक्सर गुरुद्वारा साथ में जाते थे. लेकिन मुझे उन्होंने कभी भी अपने घर नहीं बुलाया था. भाटिया परिवार के बच्चे बहुत ही आज्ञाकारी थे और मैंने कभी भी उनके बीच या क्षेत्र के अन्य बच्चों के साथ उनका झगड़ा होते नहीं देखा था.’

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY