बेटी ने अपने बीमार पिता को लिवर का 65 प्रतिशत हिस्सा देकर बचाई जान, हर तरफ हो रही है तारीफ


 

liver-transplant

अभी भी समाज में कुछ लोग ऐसे हैं जो बेटियों के मुकाबले बेटों को ज्यादा लाड़-प्यार देते हैं और बेटियों को मजबूरी समझते हैं. हालांकि पिछले कुछ सालों में लोगों की मानसिकता में बदलाव आया है. लेकिन कोलकाता में हाल ही में एक ऐसी घटना घटी जिसको सुनकर बेटियों को मजबूरी समझने वाले लोगों की मानसिकता में जरूर बदलाव आएगा. हुआ यूं कि कोलकाता की रहने वाली राखी दत्ता (19 वर्ष) के पिता के लिवर की गंभीर बीमारी से पीड़ित होने के कारण डॉक्टरों ने उन्हें लिवर प्रर्त्यपण कराने के लिए कहा. यह पल राखी और उसके परिवार के लिए किसी मुसीबत से कम नहीं था.

राखी के कदम की जमकर तारीफ कर रहे

डॉक्टरों के परामर्श पर राखी ने अपने भविष्य की परवाह किए बिना पिता को अपने लिवर का 65 प्रतिशत हिस्सा दान कर दिया. राखी के इस कदम से उसके पिता की जिंदगी बच गई. आज लोग राखी के इस कदम की जमकर तारीफ कर रहे हैं. लोगों का कहना है कि इससे उन लोगों की मानसिकता बदल सकती है जो बेटियों को बोझ समझते हैं. राखी ने अपने इस कदम से न सिर्फ संकीर्ण भावना वाले लोगों को आइना दिखाया बल्कि पिता अपार प्रेम का उदाहरण समाज के सामने पेश किया.


LEAVE A REPLY