अब नशों की सूचना न देने वाले चौकीदारों व नम्बरदारों की खैर नहीं – DC प्रदीप अग्रवाल


लुधियाना – नशों के कारण पंजाब में लगातार हो रही युवाओं की मौतों पर जिला व पुलिस प्रशासन ने इसके खात्मे के लिए अब आपसी तालमेल पर एक सांझा रणनीति के तहत काम करने का फैसला लिया है। आज बचत भवन में बुलाई गई एक विशेष बैठक के दौरान जिलाधीश प्रदीप अग्रवाल के अतिरिक्त जिला व पुलिस प्रशासन के कई आलाधिकारियों ने उक्त फैसला लिया।

अग्रवाल ने बताया कि लुधियाना समेत अन्य गांवों में नशों की जानकारी होने के बावजूद चौकीदार या नम्बरदार सूचना नहीं देता है तो उन पर भी सख्त कार्रवाई की जाएगी। प्रदीप ने कहा कि गांव के जिम्मेदार लोग चौकीदार व नंबरदार को इस बात की पूरी जानकारी होती है कि कौन व्यक्ति गैर-कानूनी गतिविधियों में लिप्त है लेकिन वे पुलिस प्रशासन को नहीं बताते हैं।जिलधीश ने सभी एस.डी.एम. व पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे अपने-अपने सब डिवीजनों के चौकीदारों व दवाई विक्रेताओं इत्यादि के साथ साप्ताहिक मीटिंग करके सरकार की सख्त हिदायतों बारे जानकारी दें और उन गांवों को ङ्क्षचहित करें जहां नशे की सबसे ज्यादा समस्या है व एक्शन लेने पर गुरेज न करें।

उन्होंने कहा कि नशा छुड़ाओ केंद्रों की भी अचानक चैकिंग की जाएगी और गांवों में नशों के खिलाफ जागरूकता कैंप लगाए जाएंगे। अग्रवाल ने पुलिस अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि वे नशों के खिलाफ की जा रही कार्रवाई की रिपोर्ट रोजाना भेंजे। बैठक में देहाती एस.एस.पी. सुरजीत सिंह, लुधियाना डिप्टी कमिश्रर पुलिस अश्विनी कपूर, अतिरिक्त जिलाधीश खन्ना डा. शेना अग्रवाल, अजय सूद व अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY