ठेका रद्द होने के बावजूद सब्जी मंडी में काटी जा रही है पर्चियां, हो सकता है विवाद


 

clash at vegetable Market

महानगर में बहादुरके रोड स्थित सब्जी मंडी में जारी विवाद पिछले कई दिनों से मीडिया की सुर्खियां बना है। सब्जी मंडी में ओवरचार्जिंग को लेकर प्रतिदिन की कलह-क्लेश तो ठेका रद्द होने के बाद खत्म होना मानी जा रही थी लेकिन लगता है कि सब्जी मंडी को किसी की नजर लग गई है।

देखा गया है कि जिन गैर-कानूनी रास्ते पर ठेकेदार चल रहा था अब उस रास्ते पर मार्कीट कमेटी चल पड़ी है, जबकि शर्तों के मुताबिक ठेकेदार को भी हिदायत थी कि 48 वर्ग/फुट एरिया के 100 रुपए प्रतिदिन इकट्ठा करने होते हैं।मगर पूर्व ठेकेदार द्वारा मनमर्जियां करके ओवरचार्जिंग की जा रही थी, जिसके खिलाफ यूनियन द्वारा हड़ताल करने के बाद पंजाब मंडी बोर्ड को उक्त ठेकेदार का ठेका रद्द करना पड़ा।

ठेका रद्द होने के बाद भी सब्जी मंडी में कार्यरत रेहड़ी-फड़ी वालों को किसी तरह की राहत नहीं मिल पाई है, जिनका कहना था कि वही ओवरचार्जिंग का काम मार्कीट कमेटी के कर्मी कर रहे हैं। पीड़ित सब्जी विक्रेताओं ने आरोप लगाया कि 100 रुपए की बजाय 150 से 200 रुपए वसूले जा रहे हैं, जो गैर-कानूनी है। अगर मार्कीट कमेटी ने अवैध वसूली न रोकी तो वे एकत्रित होकर फिर से आंदोलन छेड़ देंगे, क्योंकि उनके साथ ठेकेदार के बाद मार्कीट कमेटी धक्केशाही कर रही है।


LEAVE A REPLY