लुधियाना में कैट परीक्षा के दौरान आयोजकों ने दिखाई सख्ती – हाथ पर बंधी मौली तक उतरवाई


लुधियाना – कैट की परीक्षा देने आए कई कैंडीडेट्स की मानसिक तैयारी उस समय धरी की धरी रह गई, जब परीक्षा केंद्र में एंट्री से पहले उनको स्वैट शर्ट व कलाई पर बांधी मौली उतारने के लिए कह दिया गया। आयोजकों की स्वैट शर्ट व मौली को लेकर बरती गई ऐसी सख्ती को देखकर कैंडिडेट्स भी स्वयं को असहज महसूस कर रहे थे।

उनका कहना था कि मौली व स्वैट-शर्ट संबंधी एडमिट कार्ड पर भी कोई दिशा-निर्देश नहीं थे। देश के प्रमुख 20 इंडियन इंस्टीच्यूट्स ऑफ मैनेजमैंट(आई.आई.एम.) एवं 100 से अधिक मैनेजमैंट कॉलेजों में एडमिशन के लिए रविवार को आयोजित कॉमन एडमिशन टैस्ट (कैट) के लिए लुधियाना में शेरपुर चौक के नजदीक आई.ओ.एन. डिजीटल जोन में परीक्षा केंद्र बनाया गया। आयोजकों की सख्ती इस कदर हावी रही कि कई कैंडीडेट्स की कलाई पर बांधी मौलियां व कड़े तक भी उतरवा लिए गए। यही नहीं सुबह के समय में सर्दी से बचने के लिए स्वैट-शर्ट पहनकर टैस्ट देने पहुंचे कुछ कैंडीडेट्स (लड़कों) ने बताया कि उनको टैस्ट शुरू होने से पहले परीक्षा केंद्र के हाल के बाहर से वापस भेज दिया गया, जहां उन्होंने बाहर मुख्य गेट पर उपस्थित अपने परिजनों या परिचतों से बेनती करके अपनी स्वैट-शर्ट उन्हें देकर उनकी कमीजें मांगकर पहनीं।

सुबह के चरण की परीक्षा देकर बाहर आए कैंडीडेट्स ने ऐसी सख्ती पर सवाल भी खड़े किए और कहा कि अगर इतनी सख्ती करनी थी तो एडमिट कार्ड पर सब कुछ लिखा होना चाहिए था। परीक्षा से पहले स्टूडैंट्स को इस तरह से मानसिक परेशानी देना कहां तक जायज है? वहीं कैट की तैयारी करवाने वाले प्रशिक्षक एवं आई.एम.एस. के डायरैक्टर मुनीष दीवान ने कहा कि आई.आई.एम. में दाखिले के लिए प्रति वर्ष होने वाले कैट में एंट्री के लिए स्टूडैंट्स के साथ बरती जाने वाली इस तरह की सख्ती से कैंडिडेट का मनोबल परीक्षा से पहले गिरता है। इतनी सख्ती तो एयरपोर्ट पर एंट्री करने व बोॄडग के समय भी नहीं देखने को मिली, जितनी एक एग्ज़ाम के लिए एंट्री करने को देखने को मिल रही है। उधर, परीक्षा में किसी तरह की तकनीकी अड़चन सामने नहीं आई और परीक्षा सही तरह से आयोजित हो गई।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY