सरकारी स्कूलों में पढऩे वाले 12.76 लाख छात्रों को दिया पंजाब सरकार ने तोहफा, 76.57 लाख फंड किया जारी


Punjab Government School Students

सरकारी स्कूलों में पढऩे वाले विद्यार्थियों को सर्दी की यूनिफार्म खरीदने के लिए पैसे उनके खातों में जमा करवाने को लेकर सरकार ने फिलहाल जिलों को ही फंड जारी करने के लिए कदम बढ़ाए हैं। बताया जा रहा है कि बैंक में बच्चों के खातों में पैसे ट्रांसफर करने को लेकर आड़े आने वाली कई तकनीकी दिक्कतों के चलते वर्दियां मिलने में हो रही देरी का मामला ध्यान में आते ही शिक्षा मंत्री ओ.पी. सोनी ने विभाग को फंड गत वर्षों की तरह की जिलों को जारी करने के आदेश विभाग को दिए हैं।

सोनी के आदेशों पर अब शिक्षा विभाग ने सीधे जिलों को ही विद्यार्थियों की गिनती के मुताबिक फंड जारी करने संबंधी कदम बढ़ाए हैं। बता दें कि शिक्षा मंत्री सोनी ने पहले घोषणा की थी कि इस बार सर्दी की वर्दी खरीदने के लिए सरकार द्वारा 600 रुपए प्रति छात्र के हिसाब से पैसे विद्यार्थियों के बैंक खातों में ट्रांसफर करवाए जाएंगे।

मगर जिला स्तर पर विभागीय अधिकारियों को इस प्रक्रिया को पूरी तरह से अमलीजामा पहनाने में आ रही कई दिक्कतों के बाद फिलहाल इस सीजन में बच्चों को स्कूलों से ही वर्दी मिलने का रास्ता साफ हो गया है।क्या-क्या मिलेगा ड्रैस में निर्देशों के अनुसार विद्यार्थियों को दी जाने वाली वर्दी में लड़कों के लिए पेंट-कमीज, गर्म स्वैटर, पटका या टोपी, बूट व जुराबें, जबकि लड़कियों के लिए सलवार-कमीज, गर्म स्वैटर, पटका या टोपी, बूट व जुराबें शामिल हैं। ज्यादातर स्कूलों में नीले चैक वाली वर्दी आम देखने को मिलती है लेकिन इस बार शिक्षा विभाग द्वारा जारी किए पत्र में वर्दी का रंग भी निर्धारित किया गया है, जिसमें पहली से 5वीं कक्षा तक के विद्यार्थियों के लिए कमीज का रंग लेमन और पेंट-सलवार का रंग बॉटल ग्रीन होगा। 6वीं से 8वीं कक्षा तक के विद्यार्थियों के लिए कमीज का रंग कैमल और सलवार-पेंट का रंग कॉफी कलर होगा।

स्कूल मैनेजमैंट कमेटियों को दी जिम्मेदारी

इस श्रंखला में समग्र शिक्षा अभियान के पंजाब में स्टेट प्रोजैक्ट डायरैक्टर एवं डी.जी.एस.ई. ने पत्र जारी करके जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं। पत्र में यह बताया गया है कि सरकार द्वारा प्रति छात्र 600 रुपए के हिसाब से वर्दी के फंड भेजे जा रहे हैं, जिसके तहत स्कूलों को स्टूडैंट्स की वर्दी खरीदनी होगी। यह वर्दी स्कूल मैनेजमैंट कमेटियों (एस.एम.सी.) स्तर पर ही विद्यार्थियों को उपलब्ध करवाई जानी है।

इन छात्रों को मिलेगा फायदा

पत्र में स्पष्ट किया गया है कि ई-पंजाब पोर्टल पर दर्ज बच्चों की संख्या के अनुसार स्कूलों को वर्दी का फंड उपलब्ध करवाया जा रहा है। वर्दी प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों में पहली से 8वीं कक्षा तक की सभी लड़कियां जिनकी संख्या 7,12,794 है, वहीं सभी एस.सी./एस.टी. वर्ग के लड़कों जिनकी संख्या 4,85,512 है, जबकि गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले सभी लड़कों जिनकी संख्या 77,997 है, को वर्दी मिलेगी।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY