हीरो साइकल्स के सीएमडी श्री पंकज एम मुंजाल ने डच प्रधानमंत्री श्री मार्क रुत्ते, उप प्रधानमंत्री मिस काजसा ओलॉन्ग्रेम से की मुलाकात


लुधियाना – दुनिया के सबसे बड़े साइकल फ्रेंडली देश में निवेश और सहकार्यता के अवसरोँ की तलाश में हीरो साइकल्स के सीएमडी श्री पंकज एम मुंजाल ने भारत यात्रा पर आए नीदरलैंड के प्रधानमंत्री श्री मार्क रुत्ते से रात्रि भोज पर मुलाकात की और उनके साथ साइकल के प्रति अपने पारस्परिक साइकल प्रेम के बारे में चर्चा की। नीदरलैंड अपने देशव्यापी साइकलिंग कल्चर के लिए दुनिया भर में जाना जाता है, और इसी कल्चर को प्रोत्साहि करने के लिए साइकलिंग को भारत सरकार के मिनिस्ट्री ऑफ हाउसिंग एवम अर्बन अफेयर्स के स्मार्ट सिटीज मिशन का भी अहम हिस्सा बनाया गया है। हीरो साइकल्स के सीएमडी श्री पंकज एम मुंजाल को डच उप प्रधानमंत्री मिस काजसा ओलॉन्ग्रेन और बारामती महाराष्ट्र की सांसद श्रीमती सुप्रिया सुले के साथ उस वक्त साइकल चलाते हुए देखा जा सकता था जब वे शहरी यातायात सम्बंधी जाम की समस्या के वातावरण-फ्रेंडली समाधान पर आपस में चर्चा कर रहे थे। नीदरलैंड में साइकल चलाने के लिए इतने बेहतरीन संसाधन बनाए गए हैं जो सड़क पर सुरक्षा सुनिश्चित करते हैं और वहाँ साइकल चलाने वालोँ को प्रोत्साहित करने के लिए इंसेंटिव भी दिया जाता है।

श्री मार्क रुत्ते यहाँ अपने फॉरेन ट्रेड एवम डिवेलपमेंट कोऑपरेशन मंत्री सहित अन्य लोगोँ के साथ आए थे। इस डच विजिट में करीब 231 प्रतिनिधि शामिल थे जिनमेँ जाने माने डच व्यापारी और 130 जानी-मानी कम्पनियोँ के प्रतिनिधि भी शामिल थे। विभिन्न उद्योगोँ की व्यापारिक अगुवाई करने वाले प्रतिनिधियोँ में लॉजिस्टिक्स और स्मार्ट सिटीज से जुडे लोग भी शामिल थे- ये दोनोँ ही क्षेत्र साइकल को अंतिम छोर तक पहुंच बनाने का अहम जरिया मानते हैं। इस प्रतिनिधिमंडल में उप प्रधानमंत्री मिस काज्सा ओलॉन्ग्रेन भी शामिल थीँ, जो कि नीदरलैंड सरकार की आधिकारिक तौर पर नामित उप प्रधानमंत्री हैं (प्रधानमंत्री)। श्री पंकज एम मुंजाल, सीएमडी हीरो साइकल्स ने कहा कि, “नीदरलैंड में जब मोटर संचालित वाहनोँ के बहुत अधिक बढ जाने से ट्रैफिक जाम की समस्या हो गई और सड़क दुर्घटनाएँ तेजी से बढने लगीँ तब यहाँ के यातायात के संसाधनोँ में सुधार लाया गया। यहाँ लोगोँ के हिसाब से बेहतरीन साइकलिंग संसाधन और शहरी योजना तैयार की गई है न कि गाडियोँ के हिसाब से। उम्मीद है कि नीदरलैंड के बिजनेस मॉडल से सीख लेते हुए हम भी नियमित रूप से सड़क पर यात्रा करने वालोँ की समस्याओँ को प्रभावी ढंग से सुलझा पाने में सक्षम होंगे। इसके साथ ही, दुनिया की सबसे बडी साइकल निर्माता कम्पनी होने के नाते हम वर्षोँ के अनुभवोँ के आधार पर ऐसे डिजाइन तैयार करने में सहभागिता निभा सकते हैं जो भारत के विविध भौगोलिक परिस्थितियोँ और दूर-दराज के इलाकोँ से जुडने वाली पगडंडियोँ के अनुकूल संसाधन तैयार करने में मददगार हो।”

हीरो ग्रुप ने मैनचेस्टर में एक हाई एंड डिजाइन यूनिट में निवेश किया है जो एक नए रोड्स्टर के बडे पैमाने पर उत्पादन के लिए डिजाइन किया गया है। यह रोड्स्टर सेगमेन्ट ऐसे मजबूत, टिकाऊ और जंग-रोधक मटीरियल से तैयार किया जाएगा जो विकट मौसमी परिस्थितियोँ, भारी वजन और खराब रास्तोँ पर भी बेहतरीन प्रदर्शन करेगा। यह ग्रुप यूरोप के प्रमुख हिस्सोँ में अपनी पहुंच बनाने के लिए पूरी तरह से तैयार है, जिसकी शुरुआत इसने यूके से अपने इंसिंक ब्रांड के लॉन्च से कर दी है। नीदरलैंड साइकल के इस्तेमाल के मामले में सबसे अग्रणी देशोँ में शामिल है, बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार यहाँ के एम्सटर्डम जैसे शहरोँ में यातायात के साधनोँ में 70% तक हिस्सेदारी साइकल की हो चुकी है। ऐसा बताया जाता है कि यहाँ के हर घर में कम से कम दो साइकल होती हैं। सड़केँ इस तरह से बनाई गई हैं जिनमेँ साइकल चलाने के लिए अलग लेन, क्रॉसिंग और ट्रैफिक लाइट्स की व्यवस्था है। चूंकि साइकल लेन इन जगहोँ पर पहुंचाती हैं जहाँ आप कार के जरिए नहीं पहुंच सकते, ऐसे में साइकल से यात्रा करने वालोँ को प्रोत्साहन देने के लिए इंसेंटिव (छूट) भी दी जाती है। यहाँ साइकल इस्तेमाल करने वालोँ के लिए खास साइन पोस्ट और ट्रैफिक सिग्नल भी अलग से बनाए गए हैं। यहाँ तक कि प्रधानमंत्री मार्क रुत्ते और डच सरकार के तमाम अधिकारी भी अक्सर साइकल चलाकर काम करने जाए हुए नजर आ जाते हैं।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY