राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से विधेयक को मंजूरी मिलने के बाद पंजाब में हुक्का बारों पर स्थायी रुप से लगी रोक


Hukka Bar

पंजाब में तंबाकू के इस्तेमाल पर अंकुश संबंधी विधेयक को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मंजूरी मिलने के बाद राज्य के हुक्का बार पर स्थायी रुप से रोक लग गई है। देश में गुजरात और महाराष्ट्र के बाद पंजाब हुक्का बार और लाउंज पर पाबंदी लगाने वाला तीसरा राज्य है। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि राष्ट्रपति ने सिगरेट एवं अन्य तंबाकू उत्पाद (विज्ञापन पर रोक तथा व्यापार एवं वाणिज्य, उत्पादन, आपूॢत एवं वितरण का विनियमन) (पंजाब संशोधन) विधेयक, 2018 को हाल ही में मंजूरी दी है। पंजाब विधानसभा ने मार्च में यह विधेयक पारित किया था। यह कानून लाने का लक्ष्य विभिन्न रुपों में तंबाकू के उपयोग पर अंकुश लगाना तथा तंबाकू उत्पादों के सेवन से उत्पन्न बीमारियों पर रोकथाम करना है।

एक अधिकारी ने कहा कि पंजाब में बारों में मादक पदार्थों के इस्तेमाल की शिकायतें मिली थीं। पंजाब विधानसभा में यह विधेयक पेश करने वाले राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा ने कहा था कि पंजाब में हुक्का-शीशा धुम्रपान की नयी प्रवृति चल पड़ी है और दिनों-दिन यह बढ़ती जा रही है। ये बार रेस्तरानों, होटलों, क्लबों में खुल रहे हैं। यहां तक की शादियों में भी हुक्के पेश किए जा रहे हैं। मोहिंद्रा ने कहा था, हुक्का में सबसे हानिकारक अवयव निकोटिन है, जिसे कैंसरकारी के रुप में जाना जाता है।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY