आतंकी दिल्‍ली तक पहुंचाना चाहते थे विस्‍फोट की गूंज, CRPF ने आतंकियों की बड़ी साजिश को किया नाकाम


आतंकी एक ऐसा धमाका करना चाहते हैं, जिसमें धमाका जम्‍मू-कश्‍मीर में हो और उसकी गूंज दिल्‍ली में सत्‍ता के गलियारे तक पहुंच सके. आतंकियों के इन नापाक इरादों में IED (इंप्रोवाइज्‍ड एक्‍सप्‍लोसिव डिवाइस) ब्‍लास्‍ट के जरिए सुरक्षाबलों के पूरे काफिले को उड़ाना भी शामिल है. आतंकियों ने बुधवार को अपने इस मंसूबों को पूरा करने के लिए एक षणयंत्र भी रचा. गनीमत रही कि आतंकियों के इस षणयंत्र के बाबत CRPF को समय रहते पता लग गया. जिसके बाद CRPF और J&K पुलिस की टीम को आतंकियों के मंसूबों को विफल करने में ज्‍यादा देर नहीं लगी. सूत्रों की माने तो आतंकियों के मंसूबों को विफल करने में CRPF अगर थोड़ा सा भी देर कर देती, आतंकी दर्जनों जवानों की जान लेने में सफल हो जाते.

आवंतीपुर रोड पर बिछाया था कई किलो विस्‍फोटक
सुरक्षाबल के सूत्रों के अनुसार आतंकियों को पता है कि बाहू त्राल के आवंतिपुरा रोड से लगातार सुरक्षाबलों के काफिलों का आवागमन बना रहता है. सुरक्षाबलों के इन काफिलों को अपना निशाना बनाने के लिए आतंकियों ने बाहूत्राल की इस रोड पर IED ब्‍लास्‍ट करने की साजिश रची. साजिश के तहत आतंकियों ने अवंतीपुरा रोड को काजीगुंड रेलवे स्‍टेशन से जोड़ने वाले लिंक रोड पर IED लगा दिया. यह IED करीब पांच किलो विस्‍फोटक से बना था. आतंकियों को पता था कि CRPF के वाहन पीकेट पार्टियों को लेकर वहीं से गुजरती हैं. आतंकियों का मंसूबा गाड़ी में मौजूद CRPF की पीकेट पार्टियों को एक साथ उठाना था. गनीमत रही कि CRPF की 185वीं बटालियन की फुट पेट्रोलिंग टीम को इस IED के बारे में पता चल गया. जिसके बाद CRPF के अधिकारियों ने तत्‍काल इसकी जानकारी J&K पुलिस के साथ साझा की. CRPF और J&K पुलिस की संयुक्‍त टीम तत्‍काल मौके पर पहुंची और इस IED को डिएक्टिवेट कर नष्‍ट कर दिया.

सड़क किनारे पड़े ग्‍लास पर लगी ठोकर से मिला सुराग
सुरक्षाबल से जुड़े सूत्रों के अनुसार CRPF की फुट पेट्रोलिंग टीम इलाके में गश्‍त कर रही थी. इसी दौरान एक जवान ने सड़क के किनारे पड़े एक ग्‍लास को पैर से ठोकर मारी. ग्‍लास के हटते ही CRPFके जवान को तार नजर आया. CRPF की फुट पेट्रोलिंग टीम ने जब पूरा मुआयना किया तो पता चला कि आतंकियों ने सड़क के किराने पत्‍थर के ठेर से IED को छिपा रखा था. इसी IED से इस तार को जोड़ा गया था. CRPF की फुट पेट्रोलिंग टीम ने तत्‍काल इसकी जानकारी बम डिस्‍पोजल स्‍क्‍वायड को दी. मौके पर पहुंचे बम डिस्‍पोटल स्‍क्‍वायड ने IED को निष्क्रिय किया. जांच में पता चला कि IED को बनाने के लिए यूरिया का इस्‍तेमाल किया गया था. IED को बनाने में इस्‍तेमाल किए गए सामान से अंदाजा लगाया जा रहा है कि उसे स्‍थानीय आतंकियों ने ही तैयार किया है.

आतंकियों की तलाश में जुटे सुरक्षाबलों की संयुक्‍त टीम
सुरक्षाबल से जुड़े वरिष्‍ठ अधिकारियों के अनुसार अवंतिपुरा रोड पर लगातार वाहनों की आवाजाही बनी रहती है. इतने कम समय में IED लगाकर आतंकी बहुत दूर नहीं जा सकते हैं. वहीं आतंकी अपनी जाल में फंसने वाले सुरक्षाबलों के वाहन को देखने के इरादे से आसपास हो सकते हैं. इन्‍हीं संभावनाओं को ध्‍यान में रखते हुए CRPF और J&K पुलिस की संयुक्‍त टीम इलाके में आतंकियों की तलाश में सर्च ऑपरेशन चला रही है.

  • 719
    Shares

LEAVE A REPLY