लुधियाना में आयकर विभाग द्वारा रियल एस्टेट कारोबारियों पर दी गई दबिश


काले धन को प्रापर्टी में एडजस्ट करने वालों के खिलाफ आयकर विभाग ने सख्त रुख अख्तियार कर लिया है, जिसके तहत इन्वैस्टीगेशन विंग की विभिन्न टीमों ने कल लुधियाना के साथ-साथ दिल्ली व मोहाली में स्थित रीयल एस्टेट कारोबारियों के लगभग 36 परिसरों पर सर्च व सर्वे किया है।सूत्रों के मुताबिक इंकम टैक्स विभाग की इस कार्रवाई की शुरूआत लुधियाना के मशहूर वाइन कांट्रैक्टर व रीयल एस्टेट डीलर केवल कृष्ण छाबड़ा के स्थानीय डंडी स्वामी स्थित निवास से हुई।

फिर उनके पार्टनर विनोद कुमार दीवान के कालेज रोड, राजेंद्र सिंह (गुजराल) उर्फ पिंकी के बी.आर.एस. नगर, जगजीत मोटर्स, गुडविल एल्कट्रो, वी.आर. डिवैल्पर ए.सी मार्कीट, रॉयल बिल्डर के मॉल रोड, एक समाचारपत्र के पत्रकार के मॉडल ग्राम व साजन मॉडल के कूचा नंबर-12 फील्ड गंज स्थित परिसरों पर विभाग ने दबिश दी, जिसमें इन लोगों के घर व दफ्तर शामिल है। इन परिसरों को पूरी तरह सील करके वहां पड़े दस्तावेज व कम्प्यूटर आदि कब्जे में ले लिए गए हैं। वहां किसी को भी अंदर-बाहर जाने की इजाजत नहीं दी जा रही। बताया जाता है कि विभाग ने उक्त परिसरों के बैंक एकाऊंट्स सील कर दिए हैं और रीयल एस्टेट से संबंधित सेल-परचेज को अच्छी तरह खंगाला जा रहा है।

आर्कीटैक्ट व बिल्डर भी आए जांच के घेरे में

इंकम टैक्स विभाग ने अपनी जांच में सोसायटी सिनेमा की जगह पर बन रही मार्कीट के आर्कीटैक्ट व बिल्डर तक को जांच के घेरे में ले लिया है। इनके सभी परिसरों में दस्तावेजों की जांच की जा रही है।

एक-दूसरे से जुड़ते चले गए लिंक

इंकम टैक्स विभाग की कार्रवाई का दायरा इतना बड़ा है कि हर कोई हैरानी प्रकट कर रहा है, जिसे लेकर सूत्रों का कहना है कि जहां से जांच शुरू की गई, उसके बाद एक-दूसरे के साथ लिंक जुडऩे पर दबिश दी जा रही है।

लंबी चल सकती है कार्रवाई

इंकम टैक्स विभाग द्वारा बुधवार सुबह 5 बजे कार्रवाई की शुरूआत की गई, जो देर रात तक जारी रही। इसे लेकर यह कहा जा रहा है कि इतने ज्यादा यूनिटों पर एक साथ की गई दबिश की कार्रवाई लंबी चल सकती है।

शिकायत के आधार पर हुई है कार्रवाई

बताया जाता है कि यह सारी कार्रवाई एक शिकायत के आधार पर हुई है, जिसे लेकर इंकम टैक्स विभाग द्वारा पहले लंबे समय तक रेकी की गई, जिसका नतीजा है कि एक साथ इतने बड़े पैमाने पर रीयल एस्टेट कारोबारियों पर दबिश दी गई है।

लिंक रखने वाले हुए अंडरग्राऊंड

इंकम टैक्स विभाग की इस कार्रवाई की खबर शहर में जंगल की आग की तरह फैल गई, लेकिन जब उसमें एक-दूसरे से ङ्क्षलक रखने वालों को निशाना बनाया गया तो काफी लोग तो अंडरग्राऊंड हो गए और उन्होंने अपने घरों व ऑफिस में पड़े दस्तावेजों को ठिकाने लगाना शुरू कर दिया।

विभाग के हाथ लगा 15 लाख कैश व गोल्ड

राजेन्द्र सिंह तारा जो केवल कृष्ण छाबड़ा का पार्टनर बताया जाता है, के घर में इंकम टैक्स विभाग की दबिश के दौरान 15 लाख का कैश व गोल्ड बरामद हुआ है। तारा के मुताबिक उसकी बेटी की अगले महीने शादी है, जिसके कारण कैश व गोल्ड घर पर रखा हुआ है।

विभिन्न राज्यों के 250 अधिकारी शामिल

उक्त कार्रवाई इनकम टैक्स विभाग के प्रिंसीपल डायरैक्टर अवधेश कुमार मिश्रा के निर्देशों पर एडीशनल डायरैक्टर रितेश परमार व एम.एस. कपूर की अगुवाई में की गई। इस कार्रवाई में इंकम टैक्स विभाग के विभिन्न राज्यों के बुलाए गए 250 अधिकारी शामिल बताए जा रहे हैं।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY