ED ने मारा मशहूर भजन गायक नरेंद्र चंचल के घर पर छापा


आयकर विभाग की टीम द्वारा आज मशहूर भजन गायक नरेंद्र चंचल के घर पर छापेमारी करने की सुचना मिली है सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार यह छापेमारी गायक नरिंदर चंचल के अमृतसर में स्थित घर में हुई है| आयकर विभाग द्वारा मारी गई इस छापेमारी में विभाग के आला अफसर भी मौजूद थे और यह छापमारी लगभग आठ घंटे तक चली है| इस छापेमारी के बारे में आयकर विभाग के अधिकारीयों द्वारा कुछ भी बताया नहीं गया है पर आठ घंटे तक चली इस छापेमारी में आयकर विभाग के अधिकारीयों शायद कोई पुख्ता सबूत हाथ लगे है जो की आगे गायक नरिंदर चंचल के लिये मुश्किलें खड़ी कर सकतें है| यहाँ हम आपको बता दें की नवरात्र के दिनों में घर से लेकर मंदिर तक ‘तूने मुझे बुलाया शेरावालिये.’ भजन कानों में न पड़े, यह असंभव है। ये भजन नरेंद्र चंचल द्वारा ही गाया गया है। चंचल धार्मिक समारोह से जुड़े हुए सिंगर हैं।

नरेंद्र चंचल को मिली थी मां काली से झूठ बोलने की सजा

हुआ यूं कि घर के पास ही मां काली के मंदिर में उन्हें भेंट गाने के लिए किसी ने कहा। उसी दौरान उन्हें भजन रिकार्ड के लिए मुंबई जाना था। चंचल ने जानबूझकर कहा कि बीमार हूं और वह काली माता मंदिर में भजन गाने की बजाय भजन रिकार्ड करवाने मुंबई चले गए। मुंबई भजन रिकार्ड करते समय उनकी आवाज बंद हो गई। उन्हें समझ आ गया था की मां काली के मंदिर में उन्होंने भजन गाने से इनकार की सजा मां ने दी है। वो अमृतसर आए, मां काली मंदिर में जाकर माफी मांगी तो आवाज वापस आ गई। बचपन में किस तरह चंचल हुआ करते थे, यह शायद आप पहली बार पढ़ रहे हैं। नरेंद्र चंचल बचपन में बहुत चंचल थे। दोस्तों के साथ दिनभर खेलना उन्हें बहुत भाता था। स्कूल जाने से थोड़ा घबराते थे। स्कूल जाने लगे तो उनके चंचल दिमाग ने बताया कि शरारतें करोगे तो स्कूल वाले वैसे ही निकाल देंगे, बस फिर क्या था शरारतें करनी शुरू कर दीं। चंचल और उनके दोस्त कूड़े में फेंकी सिगरेट की खाली डिब्बी उठाकर उसे 52 पत्तों की ताश बनाते और उसी से घंटों तक खेला करते थे।

आगे पढ़े पूरी खबर
  • 719
    Shares

LEAVE A REPLY