जल्द होगा दुनिया के सामने भारत के इंजीनियरों का एक और कारनामा, 250 करोड़ की लागत से बनने वाला है टेक्नोलॉजी का बेजोड़ नमूना रामेश्वरम पुल – देखें वीडियो


ramsetu bridge

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से लेकर बोगीबील पुल तक देश के सामने इंजीनियरिंग के शानदार उदाहरण सामने आए हैं. इसी क्रम में अब रामेश्वरम को भारत की मुख्यभूमि से जोड़ने के लिए रेलवे एक नए और अनोखे पुल का निर्माण कर रहा है. इस पुल के रूप में भारत के इंजीनियरों के नाम एक और उपलब्धि जुड़ने जा रही है. दरअसल, यह पुल किस तरह का होगा, इसे समझाने के लिए रेल मंत्री पीयूष गोयल ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक वीडियो शेयर किया है.

Loading Video Please Wait

पुल बनाने में यूज होगी ‘वर्टिकल लिफ्ट स्पैन टेक्नोलॉजी’

पीयूष गोयल ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा है कि ”क्या कभी मूविंग ब्रिज देखा है? रामेश्वरम को भारत के मेनलैंड से जोड़ने वाला पंबन सेतु ‘वर्टिकल लिफ्ट स्पैन टेक्नोलॉजी’ पर बनाया जाएगा. मालवाहक जहाज गुजरने के समय इस टेक्नोलॉजी के प्रयोग से पुल के बीच के हिस्से को जरूरत के हिसाब से ऊपर उठाया जा सकेगा.” गौरतलब है कि रामेश्वरम-धनुषकोडी सेक्शन पर भारतीय रेलवे पुल बनाने जा रहा है जो 104 वर्ष पुराने मौजूदा पंबन पुल की जगह लेगा. यह रेलवे लाइन 1964 में आए समुद्री तूफान में बह गई थी.

250 करोड़ की लागत से बनेगा पुल

रेल मंत्री द्वारा पोस्ट किये गए इस वीडियो को करीब 5000 लोगों ने शेयर किया है. 22 घंटे पहले के इस वीडियो को अब तक दो लाख से ज्यादा लोगों ने देखा है. प्राप्त जानकारी के अनुसार, दो किलोमीटर से ज्यादा लंबे इस पुल के निर्माण में करीब 250 करोड़ रुपए का खर्च आएगा. वहीं, इस पुल का 63 मीटर का बीच का हिस्सा लिफ्ट से जुड़ा होगा जिसे मालवाहक जहाजों के आने पर ऊपर किया जा सकेगा. इसके बाद उसे नीचे करने पर फिर से रेल यातायात शुरू हो जाएगा.

रामसेतु तक सीधे पहुंच सकेंगे लोग

भारतीय रेलवे की ओर से पुल के निर्माण को मंजूरी मिल गई है. कहा जा रहा है कि इस पुल के निर्माण में चाल वर्षों का समय लगेगा. इस पुल पर रामेश्वरम और धनुषकोडी को जोड़ने वाली रेलवे की लिंक लाइन भी तैयार हो जाएगी. इस पुल का निर्माण पूरा होने के बाद लोग सीधे रामसेतु तक पहुंच सकेंगे.

  • 288
    Shares

LEAVE A REPLY