जगराओं पुल के पास पड़े मलबे को लेकर रेलवे और नगर निगम हुए आमने-सामने


Jagraon Bridge Construction Work still Pending

जगराओं पुल के निर्माण के लिये पुल के पास लोगों द्वारा किये गये अवैध कब्जे को नगर निगम द्वारा बुलडोजर चला कर हटाया गया था पर अब नगर निगम द्वारा हटाये गये कब्जे का मलबा ही जगराओं पुल के निर्माण में आड़े आ रहा है| मलबे को हटाने के लिए रेलवे प्रशासन व नगर निगम आमने-सामने हो गयें है। दोनों ही एक दूसरे को इसको हटवाने की जिम्मेदारी बता रहे हैं। रेल प्रशासन के अफसरों का मानना है कि टेंडर में मलबा हटाने का जिक्र नहीं है। योजना में सिर्फ नए ब्रिज निर्माण की बात है। पहले यहां लोगों ने अपना घर बनाया था। उन्हें फ्लैट में शिफ्ट करवाने का काम नगर निगम ने करवाया था, इसलिए अब मलबा हटाने का काम भी नगर निगम को ही कराना होगा।

वहीं निगम के अधिकारियों का कहना है कि रेलवे की जमीन और निगम की जमीन पर लोगों ने घर बनाया था। लोग काफी समय से वहां रह रहे थे। रेलवे और राज्य सरकार की मीटिंग में अतिक्रमण धारकों को हटाने की जिम्मेदारी नगर निगम को दी गई थी, जिसके बाद अतिक्रमण धारकों को यहां से हटाकर मुंडियां कलां 33 फुटा रोड स्थित फ्लैट में शिफ्ट करवाया गया था। अब यहां जगह खाली हो चुकी है। खाली घरों का सिर्फ मलवा पड़ा है जिसे हटाना है। बता दें कि रेल ब्रिज निर्माण करवाने में 60 प्रतिशत फंड राज्य सरकार का है। अब निर्माण करवाना रेलवे की जिम्मेदारी है। कोट्स नगर निगम ने अतिक्रमण हटवा दिया था। अब मलबा हटाने की जिम्मेदारी रेलवे प्रशासन की है।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY