लुधियाना के स्कूल में हुआ कराटे बैल्ट प्रतियोगिता का आयोजन


लुधियाना – राहों रोड स्थित द ग्रेट स्कूल ऑफ़ मार्शल आर्ट द्वारा कोच गौरव सचदेवा की अध्यक्षता में बैल्ट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें 50 स्टूडेंट्स ने भाग लिया व् अपनी कला कैशल का प्रदर्शन किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि व् जजमेंट के लिए जालंधर से सैन्सुई राजिंदर महेन्द्रू विशेष रूप से पहुंचे जिनका अकैडमी द्वारा स्वागत किया गया। प्रतियोगिता ग्रीन बैल्ट,येलो बैल्ट,व् ऑरेंज बैल्ट स्पर्धा में बच्चों ने भाग लेकर अपनी काबलियत सिद्व की इस अवसर पर जजमेंट की भूमिका अदा कर रहे राजिंदर महेन्द्रू ने कहा कि आत्मरक्षा करने के लिए आज सभी बच्चों को कराटे की ट्रेनिंग लेनी चाहिए विशेष कर लड़कियों को क्योंकि आज के दूषित वातावरण में लड़कियों को अपनी आत्मरक्षा के लिए सचेत रहने की जरूरत है और कराटे आत्मरक्षा का आज एक बहुत अच्छा विकल्प है। कोच गौरव सचदेवा ने कराटे के इतिहास से परिचित कराते हुए कहा कि कराटे भी जूडो की तरह शारीरिक अंगो की क्रियाओ का खेल है इसका इतिहास भी उतना ही पुराना है जितना जूडो का, प्राचीन काल से ही मनुष्य अपनी रक्षा के प्रति चिंतित रहा है|

उस समय न तो आधुनिक हथियार हुआ करते थे और न ही अस्त्र-शस्त्र जैसी कोई अन्य सामग्री|अतः उन डीनो शत्रुओ से मुक़ाबला करना एक जोखिम भरा कार्य होता था| उन्होंने कहा कि आज के युग में महिलाओ से छेड़खानी एक आम बात हो गई है| अकेली-दुकेली महिलाओ को गुंडे छेड़ते हुए तनिक भी नहीं सकुचाते ऐसी विपरीत स्थितियो में महिलाए कराटे की कला से अपनी रक्षा कर सकती है|बैल्ट प्रतियोगिता में पास होने वाले बच्चों को सैन्सुई महेन्द्रू ने बैल्ट व् सर्टिफिकेट देकर सन्मानित किया। प्रतियोगिता में विवान, दक्ष अरोड़ा,शिवा,दीपक,कुणाल,विपिन आदि ने येलो बेल्ट,रिपु दमन,जूही,दीपिका,स्टाबुल,सौरव,सचिन,मुकेश,कन्हैया ने ऑरेंज बेल्ट,हर्षिका,आयुष ने ग्रीन बैल्ट,राजवीर ने पर्पल बैल्ट पास की। इस अवसर पर हिमेश गोयल,अभिषेक महेन्द्रू आदि विशेष रूप से अकैडमी में पहुंचे।


LEAVE A REPLY