इस जेल में मिलने वाली सुविधाएं जानकर, कैदी बनने की इच्छा जाग सकती है


जेल की दीवारें और सलाखों का नाम सुनकर मन में एक तस्वीर बनती है एक काल कोठरी की, जहां चारों तरफ अंधेरा है, रोशनदान से झांकती सूरज की किरणें जेल के एक कोने अपनी हाजिरी दर्ज करा रही है। पानी के लिए एक पुराना सा मटका और उस पर उलटा करके रखा हुआ टेढ़ा मेढ़ा गिलास, गंदे से फर्श पर मैली सी दरी.. उफ्फ। मतलब जेल के नाम से इंसान डिप्रेश में चले जाए लेकिन दुनिया में कुछ एक जेल ऐसे भी हैं जहां की तस्वीरें देखकर आपका मन मचल उठेगा, कैदी बनने के लिए। ऑस्ट्रियां का जस्टिस सेंटर लियोबेन… एक जेल है, जो अपनी भव्यवता और आलीशानता के लिए दुनियाभर में जाना जाता है। जेल के अंदर मिलने वाली फैसिलिटिज ऐसी हैं कि तस्वीरें देखने के बाद शायद कुछ लोगों का मन कैदी बनने की प्लानिंग शुरू हो जाए, जेल में स्पा जिम के अलावा रुम शेयरिंग की फैसिलिटी भी है।

फाइव स्टार जैसी सुविधाएं हैं अदर

जेल में कुल 205 कैदियों के लिए ही जगह है, इससे ज्यादा लोगों को यहां नहीं रोका जाता है। जिस जेल में कैदी रुकता है, उसे जेल के साथ एक लिविंग रुम, एक किचन के अलावा पर्सनल बाथरुम दिया जाता है। कमरा कोई कोठरी जैसा नहीं बल्कि एक बड़ी विंडों के साथ मिलेगा, जहां से आप बाहर के नजारे भी देख सकते हैं। जेल के ठाठ-बाट देखकर मन में सवाल उठता है कि इस जेल को आखिर इतना लग्जिरियस क्यों बनाया गया है।

जेल इतनी लग्जिरियस क्यों?

दरअसल ये जेल उन लोगों के लिए बनाई गई हैं जो छोटे मोटे अपराधों और कोर्ट की पाबंदियों की वजह से बाहर नहीं रह सकते हैं। जेल बनाने वाले की ऐसी धारणा थी कि इस तरह के माहौल में एक आम शख्स अपनी गलतियों के बारे में सोच सकता है। हालांकि हिंदुस्तान में ऐसी जेल सोचकर नहीं बनाई गई होगी। क्योंकि अगर यहां ऐसी जेल बनी तो शायद छोटे-मोटे अपराधियों की संख्या एका-एक बढ़ जाए। क्योंकि हमारे यहां मुफ्त में मिलने वाली हर सुविधा के नाम पर लोग कई दिनों तक लाइन में खड़े रह सकते हैं और वो भी बिना किसी शिकायत के… तो फिर जेल क्या चीज है।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY