आतंकवाद पीड़ित परिवारों के हक में पंजाब के मुख्यमंत्री को भेजा खून से लिखा पत्र


लुधियाना – पंजाब में एक दशक से ज्यादा समय तक रहे आतंकवाद के काले दौर के दौरान आतंकियों के हाथों शहीद हुए 35000 शहीदों के परिवारों को मुआवज़ा जारी न करने पर शिव सेना हिंदुस्तान ने मोर्चा खोल दिया है।शिवसेना हिंदुस्तान व्यापार सेना के प्रदेश प्रमुख चन्द्रकान्त चड्ढा ने स्थानीय रेखी चौक स्थित एक निजी रेस्तरां में आयोजित बैठक के दौरान अपने खून से पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह के नाम एक पत्र लिखा है।कैप्टन अमरेंद्र सिंह के नाम लिखे पत्र के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए शिवसेना नेता चन्द्रकांत चड्ढा ने बताया कि पंजाब में अमन व् शांति स्थापित करने के लिए आतंकियों के हाथों अपनी जान कुर्बान करने वाले 35000 शहीदों के परिवार 30 वर्ष बीत जाने पर भी इंसाफ की राह देख रहे है किंतु पंजाब में सत्ता में रही सभी राजनीतिक पार्टियों द्वारा 35000 आतंकवाद पीड़ित परिवारों के जख्मों पर मलहम लगाने का एक भी प्रयास नहीं किया गया।

चड्ढा ने पंजाब में कैप्टन अमरेंद्र सिंह की पिछली सरकार के दौरान आतंकवाद पीड़ित परिवारों के लिए मुआवजे हेतु 781 करोड़ रुपये के पैकेज के प्रस्ताव का कागज़ी कार्रवाई में सिमट जाने पर अफसोस प्रकट करते हुए कहा कि 35000 शहीदों की शहादत की अनदेखी को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।चड्ढा ने पंजाब में सत्तापक्ष कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि पंजाब में शांति के माहौल को स्थापित करने के लिए अपनी जान कुर्बान करने वाले शहीदों को शायद सरकार भूल गई है किन्तु पंजाब का एक एक शांतिप्रिय पंजाबी कतई 35000 शहीदों की शहादत को नहीं भूल सकता।चन्द्रकान्त चड्ढा ने बताया कि इसीलिए उन्होंने पंजाब सरकार को कुम्भकर्णी नींद से जगाने के लिए अपने खून से मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह को मांगपत्र लिखने का फैंसला लिया है।उन्होंने बताया कि वीरवार को लुधियाना के जिलाधीश के माध्यम से यह माँगपत्र मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह को भेजकर पंजाब के 35000 आतंकवाद पीड़ित परिवारों को मुआवजा जारी करने की मांग की जाएगी।इस अवसर पर शिवसेना हिंदुस्तान व्यापार सेना के शहरी अध्यक्ष गगन गग्गी,सचिव पवन वधवा,अंकुश सूद,समाज सेवक गौतम सूद,सुखचैन सिंह,रोहित शर्मा,रोशन बांसल,जौनी मेहरा,संजीव रिहान,विक्की नागपाल आदि शिवसैनिक उपस्थित थे।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY