बारिश से दिन के तापमान में आई गिरावट, लोगों ने निकाले गर्म कपड़े – आज भी छाए रह सकते हैं बादल


 

winter-rains

कल हुई बारिश से दिन का तापमान सामान्य से चौदह डिग्री सेल्सियस कम रिकार्ड किया गया। सामान्य तौर पर अप्रैल के दूसरे सप्ताह में अधिकतम तापमान 35 से 36 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है, लेकिन बुधवार को पारा 22 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क गया, जिससे ठिठुरन का अहसास हो रहा था। ऊपर से पंद्रह से बीस किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हवाओं ने भी सिहरन पैदा की। इस दौरान कई लोग गर्म कपड़े पहने भी दिखे।

मौसम विभाग के माहिरों के अनुसार अप्रैल के तीसरे सप्ताह में बहुत कम बार ऐसा हुआ होगा, जब दिन का तापमान इतना नीचे तक गिरा हो। इंडिया मेट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट चंडीगढ़ के अनुसार लुधियाना में 12 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई। सुबह व शाम के समय हवा में नमी की मात्रा 90 प्रतिशत तक दर्ज की गई। पंजाब कृषि विश्वविद्यालय की मौसम विभाग की प्रमुख डॉ. प्रभजोत ने बताया कि इस बार वेस्टर्न डिस्टर्बेस काफी स्ट्रांग है। क्योंकि अरब सागर से मायश्चर काफी मिला है। इस वजह से आंधी बारिश के साथ ओलावृष्टि भी हुई। इसके अलावा आमतौर पर जब वेस्टर्न डिस्टर्बेस अमृतसर व गुरदासपुर के रूट से एक्टिव होता है, लेकिन इस बार निचले इलाकों फिरोजपुर, अबोहर, मुक्तसर वाले रूट से आया है। हालांकि, वीरवार से वेस्टर्न डिस्टर्बेस का प्रभाव कम हो जाएगा और शुक्रवार से मौसम पूरी तरह से साफ हो जाएगा। उधर, बुधवार को दिन भर हुई बारिश ने किसानों की आंखों में आंसू ला दिए। किसान खेतों में बिछी व भीगी हुई गेंहू की फसल को देखकर काफी मायूस थे। वह अपनी पक कर तैयार खड़ी फसल को बारिश में भीगा देखकर कुदरत को कोस रहे थे। जिले में दो लाख 52 हजार हेक्टेयर में गेहूं लगाई गई है।


LEAVE A REPLY