सीवरेज और वाटर बिलों को लेकर नगर निगम हुई सख्त – सेटलमेंट के बाद बिल जमा नहीं करवाया तो कटेगा वाटर-सीवरेज कनेक्शन


MCL

नगर निगम में सीवरेज वाटर बिलों की पेंडेंसी 300 करोड़ के पार है। इस पेंडेंसी को क्लीयर करने के लिए मेयर ने दो वाटर सीवरेज बिल सेटलमेंट कमेटियों का गठन किया। कमेटियों ने चारों जोनों में बिल सेटलमेंट करने शुरू कर दिए, लेकिन सेटलमेंट के बाद भी ज्यादातर डिफाल्टर अपने बिल जमा नहीं करवा रहे। कमेटी ने अब ऐसे डिफाल्टरों का हुक्का-पानी बंद करने का फैसला किया है। कमेटी ने साफ किया कि सेटलमेंट के बाद भी जो लोग बिल जमा नहीं कर रहे हैं उनसे वसूली के लिए निगम कर्मी एक बार उनके घर जाएंगे और फिर भी पैसे जमा नहीं करवाए तो उनका सीवरेज वाटर कनेक्शन काट दिया जाएगा।

नगर निगम जोन ए, बी, सी व डी में सेटलमेंट कमेटी की बैठकें हो चुकी हैं, जिसमें कमेटियों ने उन लोगों के बिल माफ कर दिए जिनको बिल नगर निगम की गलती से जा रहे थे, जिनसे बिल वसूलने बनते थे कमेटी ने पूरी सुनवाई के बाद उन्हें जमा करवाने को कहा। इसके बावजूद ज्यादातर डिफाल्टरों ने अभी तक बिल जमा नहीं करवाए हैं। दोनों कमेटियों के चेयरमैनों ने ओएंडएम सेल के अफसरों को सख्त हिदायतें जारी कर दी हैं कि जो लोग सेटलमेंट के बाद भी बिल जमा नहीं करवा रहे हैं उनके घर पहले एक एक कर्मचारी भेजकर पैसे जमा करवाने को कहें। अगर उस दिन वह बिल जमा नहीं करवाते हैं तो साथ ही उन्हें दो दिन का नोटिस थमा कर उनका सीवरेज व पानी का कनेक्शन काट दें।

किश्त में करवा सकते हैं बिल जमा

कमेटी डिफॉल्टरों को किश्तों में भी बिल जमा करवाने की छूट दे देगी। वाटर सीवरेज बिल सेटलमेंट कमेटी टू के चेयरमैन जयप्रकाश का कहना है कि कमेटी बिलों की सेटलमेंट के लिए ही बैठी है।सीनियर डिप्टी मेयर कम चेयरमैन वाटर सीवरेज बिल सेटलमेंट कमेटी शाम सुंदर मल्होत्रा ने कहा कि जानकारी मिली है कि सेटलमेंट के बाद भी लोग बिल जमा नहीं करवा रहे हैं। अफसरों को घर जाकर बिल की वसूली के निर्देश दिए गए हैं। फिर भी भी पैसे जमा नहीं करवाए तो सीवरेज पानी के कनेक्शन काट दिए जाएं।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY