हौजरी इंडस्ट्री के लिए एमएसएमई सपोर्ट और आउटरीच प्रोग्राम आयोजित


लुधियाना के गुरु नानक भवन में रमाना इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड के सहयोग से इंडियन ओवरसीज बैंक द्वारा हौजरी इंडस्ट्री के लिए आज एमएसएमई सपोर्ट और आउटरीच प्रोग्राम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर श्री नीरज सोई (आईआरएस), ज्वाइंट कमिश्नर कस्टम एंड सेंट्रल एक्साइज, गेस्ट ऑफ ऑनर थे। कार्यक्रम का आयोजन हौजरी इंडस्ट्री और ऑटो पार्ट्स इंडस्ट्री को स्कीम्स और इंसेटिव्स से अवगत कराने के लिए किया गया था, जो कि भारत सरकार द्वारा विशेष रूप से एमएसएमई के विकास के लिए शुरू की गइ्र हैं। साथ ही इस दौरान ये भी बताया गया कि बैंक इस संबंध में कैसे उनकी मदद कर सकते हैं। इस मौके पर एक स्पेशल सेमिनार भी आयोजित किया गया, जिसमें प्रमुख मोटीवेशनल स्पीकर और कॉर्पोरेट ट्रेनर श्री सुशील अरोड़ा द्वारा उपयोगी टिप्स दिए गए। उन्होंने उपस्थित डेलीगेट्स को विभिन्न बिजनेस में सफलता की कहानियों के और कारोबार को बढ़ाने के लिए नए नए विचारों के बारे में अवगत करवाया।

सेमिनार में सरकार द्वारा प्रस्तुत की गई विभिन्न नई स्कीम्स पर भी फोकस किया गया जैसे कि मुद्रा, स्टार्टअप इंडिया, सीजीटीएमएसई और सरकार के एक नए कार्यक्रम पीएसबी लोन्स इन 59 मिनट्स के बारे में भी विस्तार से बतायागया। इसमें इसकी वेबसाइट पर ही लोन के लिए आवेदन किया जा सकता है।

इस अवसर पर अपने संबोधन में श्री एस.पी.गोयल, सीनियर रीजनल मैनेजर, इंडियन ओवरसीज बैंक ने कहा, कि ‘‘आज हमने हौजरी इंडस्ट्री और ऑटो पार्ट्स इंडस्ट्री के लिए बहुत जानकारीपूर्ण सेशन का आयोजन किया ताकि उन्हें इंडस्ट्री के विकास में मदद करने के लिए विभिन्न सरकारी योजनाओं के माध्यम से उपलब्ध विभिन्न बैंक फंडिंग विकल्पों से अवगत कराया जा सके। हमारे पास पंजाब में 65 से अधिक ब्रांचेज हैं और वे उद्योगपतियों को उनकी फंडिंग जरूरतों को पूरा करने के लिए मदद करने के लिए उत्सुक हैं और अपनी सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए हम अधिक से अधिक व्यापारियों से अनुरोध करते हैं। मैं, आईओबी की ओर से इंडस्ट्री को आगे आने के लिए आमंत्रित करता हूं और वे मेरे साथ संपर्क कर सकता है और हम सभी को हर संभव मदद और समर्थन प्रदान करेंगे।’’

श्री परमेश वशिष्ठ (रॉबी), मैनेजिंग डायरेक्टर, रमाना इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड ने कहा कि ‘‘हम इंडियन य ओवरसीज बैंक के बहुत आभारी हैं कि उसने आगे आने और इंडस्ट्री के लिए उपलब्ध विभिन्न बैंक फंडिंग और क्रेडिट विकल्पों के बारे में हमें जागरूक करने के लिए यह पहल की। हमें आईओबी के साथ जुड़े होने पर खुशी है और यह निश्चित रूप से हमारे ग्राहकों और उद्योग को विकास के लिए योजना बनाने के लिए आवश्यक समर्थन और प्रोत्साहन देने के मामले में बड़े पैमाने पर मदद करेगा। मशीनरी स्थापना एक बहुत ही कैपिटल की जरूरत वाला बिजनेस है और इसके लिए लंबी अवधि की फंडिंग और प्लानिंग की आवश्यकता होती है। हम बैंक फंडिंग और क्रेडिट सुविधाओं के साथ उद्यमियों की मदद करने के लिए आईओबी के साथ आने पर उत्साहित हैं और उनके समर्थन के लिए आभारी हैं।’’

श्री सुशील अरोड़ा, मोटीवेशनल स्पीकर और कॉर्पोरेट ट्रेनर ने कहा कि ‘‘बिननेस में काफी जोखिम शामिल रहता है, मैं कारोबारियों और साझा तकनीकों की मदद से उन्हें अपने बिजनेस को बढ़ाने और उनके कारोबार का का विस्तार करने के लिए प्रोत्साहित और प्रेरित करता हूं। मैं उद्यमियों से अपने दायरे को बढ़ाने और निर्यात जैसे नए बाजारों की तलाश करने के लिए कहता हूं क्योंकि भारत अगले कुछ दशकों तक वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए विकास का इंजन बनने जा रहा है।’’

श्री राम कृष्णा, चेयरमैन, गमसा एक्सपो इंडिया और अरूणा ज्योति, सीनियर मैनेजर, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स द्वारा सेमिनार का संचालन काफी अच्छी तरह से किया गया और इंडस्ट्री प्रतिनिधियों ने काफी बड़ी संख्या में इसमें हिस्सा लिया।


LEAVE A REPLY