विजीलैंस विभाग की टीम ने बिल्डिंग ब्रांच के इंस्पैक्टर को 15,000 रिश्वत लेते दबोचा


लुधियाना नगर निगम की बिल्डिंग ब्रांच में तैनात एक घुसखोर इंस्पैक्टर सोमवार को विजीलैंस विभाग की आॢथक अपराध शाखा के हत्थे चढ़ गया, जिससे 15,000 रुपए रिश्वत के बरामद हुए। यह रिश्वत तोड़ कर दोबारा बनाई जा रही इमारत के मालिक को तंग परेशान करके वसूली गई थी। पकड़े गए आरोपी की पहचान किरणदीप सिंह के रूप में हुई है, जो जोन-बी में तैनात है।

एस.एस.पी. परमजीत सिंह व डी.एस.पी. मनदीप सिंह ने बताया कि कृपाल नगर का राकेश कुमार अपने घर की पुरानी इमारत को तोड़कर उसका दोबारा निर्माण करवा रहा था। पुराने इमारत पर नगर निगम की तरफ से नंबर लगा हुआ था। बिल्डिंग इंस्पैक्टर किरणदीप ने इमारत का चालान डालने की धमकी देकर 25,000 रुपए की डिमांड की, बाद में सौदा 15,000 रुपए तय हो गया।

पीड़ित रिश्वत देने के खिलाफ थे। उसने इसकी शिकायत विजीलैंस के पास की। तत्काल केस दर्ज करके आरोपी को रंगे हाथ काबू करने के लिए ट्रैप की रूप-रेखा तैयार की, जिसके बाद सरकारी गवाहों की मौजूदगी में आरोपी को उसके कार्यालय के निकट एक चाय की दुकान पर पीड़ित से घूस लेते हुए काबू कर लिया। मनदीप ने बताया कि 17 दिनों में उनकी टीम का चौथा सफल ट्रैप है। आरोपी की चल-अचल संपत्ति का पता लगाने के लिए एक टीम को काम पर लगा दिया गया है। उन्होंने लोगों से अपील की कि सामाज में फैले से रिश्वतखौरी के कोढ़ को समाप्त करने के लिए खुलकर सामने आए।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY