किसानों द्वारा किये गये विरोध प्रदर्शन में किया गया नैशनल हाईवे जाम, लोगों द्वारा इन वैकल्पिक मार्गों का किया जा रहा है प्रयोग


आज जालंधर नैशनल हाईवे पर गन्ना उत्पादक किसानों द्वारा लगाए गए धरने के चलते आम जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। धरने के कारण हाईवे पर लंबा जाम लगा है। किसानों द्वारा एम्बुलेंस व जिनके पेपर है। उन्हें जाने दिया जा रहा है। बाकी वाहनों को नैशनल हाईवे से जाने से रोक दिया जा रहा । इस कारण लुधियाना, दिल्ली, चंडीगढ़ जाने वाले आम नागरिकों परेशान है। दूसरी तरफ जाम में कालेज छात्र भी फंसे हुए हैं।

वहीं पुलिस द्वारा ट्रैफिक जाम को नियंत्रित करने के लिए ट्रैफिक डवयर्ट भी किया गया है। ट्रैफिक पुलिस द्वारा जालंधर रामा मंडी से ट्रैफिक को डायवर्ट किया गया है, जबकि गोराया से जंडियाला के रास्ते जालंधर को ट्रैफिक निकाला जा रहा है। वहीं किसानों ने कहा कि अगर उनकी मांगे पूरी नहीं होती तो गन्ने की मिलों को आग लगाने के बाद वह अपनी फसल को आग लगा देंगे। उन्होंने रेलवे ट्रैक जाम करने की भी चेतावनी दी।

इस रूट का इस्तेमाल करें वाहन चालक

किसान आंदोलन के कारण फगवाड़ा मौजूदा हालात में पंजाब के कई हिस्सों से पूरी तरह से कट गया है। ऐसा नहीं है कि यदि कोई चाहे तो फगवाड़ा आ नहीं सकता है लेकिन वर्तमान में मेन हाईवे पर अपने बिस्तर बिछा उग्र किसान आंदोलन करने पर डटे हुए आंदोलनकारी किसानों के निरंतर जारी रोष प्रदर्शन के चलते मेन नैशनल हाईवे नंबर-1 का प्रयोग कर फगवाड़ा अथवा इससे आगे जालंधर, अमृतसर आदि तक पहुंचना बेहद कठिन होगा।

इस दौरान यदि लोगों को फगवाड़ा को बिना क्रास किए चंडीगढ़, लुधियाना अथवा जालंधर जाना है तो इसके लिए विशेष रूट तैयार किया गया है। अमृतसर, जालंधर से चंडीगढ़ जाने वाले लोग वाया होशियारपुर आ-जा सकते हैं। जबकि अगर लोगों को लुधियाना जाना है तो वो वाया नकोदर, मोगा की ओर से आ-जा सकते हैं अथवा इसी तर्ज पर जालंधर से आने वाले लोग वाया नूरमहल, फिल्लौर सड़क का प्रयोग कर मेन नैशनल हाईवे नंबर-1 पर पहुंच लुधियाना व इससे आगे गंतव्य को जा सकते हैं।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY