मानव संसाधन विकास मंत्रालय के फैसले से पहली और दूसरी के छात्रों को होमवर्क से मिली मुक्ति, अन्य छात्रों को भी मिली राहत


children

पहली और दूसरी कक्षा के छात्रों को होमवर्क से मुक्ति मिल गई है और दसवीं क्लास के छात्रों के लिए उनके स्कूली बस्ते का बोझ भी कम कर दिया गया है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से जारी परिपत्र में यह बात कही गयी है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय के स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग की ओर से राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों को जारी परिपत्र के अनुसार, पहली और दूसरी क्लास के छात्रों को अब होमवर्क नहीं दिया जाएगा। इसके अलावा, उनके स्कूली बस्ते का बोझ अधिकतम डेढ़ किलो होगा। इस तरह उनके बस्ते का बोझ भी कम कर दिया गया है। इसमें कहा गया है कि स्कूलों को यह तय करना होगा कि जिन किताबों की जरूरत नहीं हो, उन्हें बच्चे ना लाएं ।

जानिए कितना होगा बैग का बोझः

  • तीसरी से पांचवीं तक की कक्षाओं के छात्रों के लिए बैग का वजन दो से तीन किलोग्राम।
  • छठी से सातवीं तक के लिए चार किलोग्राम।
  • आठवीं से नौवीं तक के छात्रों के बैग का वजन साढ़े चार किलोग्राम।
  • दसवीं कक्षा के छात्रों के लिए बैग का वजन पांच किलो ग्राम से ज्यादा नहीं हो।

मंत्रालय ने पहली और दूसरी कक्षा के छात्रों को केवल गणित और भाषा पढ़ाने को कहा है, जबकि तीसरी से पांचवीं कक्षा के छात्रों को गणित, भाषा और सामान्य विज्ञान (ईवीएस) को ही पढ़ाने का निर्देश दिया है, जिसे राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) द्वारा मान्यता दी गई है।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY