शहर में 90 हजार से ज्यादा लोगों को नहीं मिलेगी नगर निगम से रिबेट, देना होगा पूरा प्रापर्टी टैक्स


Property Tax

सरकार द्वारा 30 सितम्बर तक प्रापर्टी टैक्स जमा करवाने को मिलने वाली रिबेट की डैडलाइन रविवार को खत्म हो गई, जिसका लाभ न लेने वाले 90 हजार से ज्यादा लोगों को आज से पूरा प्रापर्टी टैक्स देना होगा। नगर निगम ने वैसे तो जी.आई.एस. सिस्टम के जरिए करीब 4 लाख युनिट मार्क किए हुए हैं, लेकिन उनमें से आधे से ज्यादा लोगों को माफी का लाभ मिलने के कारण 2 लाख से भी कम लोगों के लिए रिर्टन भरना जरूरी है, जिनमें से भी आधे लोग प्रापर्टी टैक्स जमा करवाने के लिए आगे नहीं आ रहे हैं, जिसका सुबूत उस समय सामने आया, जब 30 सितम्बर तक 10 फीसदी रिबेट मिलने की डैडलाइन खत्म होने तक सिर्फ 90 हजार लोगों ने प्रापर्टी टैक्स जमा करवाया है। अब जो लोग बाकी रह गए हैं, उनको सोमवार से पूरा टैक्स जमा करवाना होगा।

2 छुट्टियों में हुई 9 करोड़ की कलैक्शन

निगम द्वारा 30 सितम्बर तक 10 फीसदी रिबेट मिलने की डैडलाइन होने के मद्देनजर शनिवार व रविवार को छुट्टी होने के बावजूद सभी ऑफिस व सुविधा सैंटर खोलकर रखे गए थे। जिन दो छुट्टियों में करीब 9 करोड़ की प्रापर्टी टैक्स कलैक्शन होने की सूचना है।

40 फीसदी लोगों ने ऑनलाइन सिस्टम में दिखाई दिलचस्पी

निगम द्वारा मेनुयल व सुविधा सैंटर के जरिए प्रापर्टी टैक्स वसूलने के अलावा लोगों को घर बैठे ही ऑनलाइन रिर्टन भरने की सुविधा भी दी गई है। इसका नतीजा यह हुआ है कि अब तक प्रापर्टी टैक्स जमा करवाने वाले 40 फीसदी लोगों ने ऑनलाईन सिस्टम में दिलचस्पी दिखाई है।

35 हजार डिफाल्टरों ने जमा करवाया 10 करोड़ का बकाया टैक्स

निगम को अब तक जो 48 करोड़ का प्रापर्टी टैक्स मिला है, उसमें से 10 करोड़ पिछले सालों का पेंडिंग चल रहा था। जिसे अब लोगों ने 35 हजार रिर्टनों के रूप में जमा करवाया गया है। उसके बाद बाकी बचे डिफाल्टरों को अब नोटिस जारी करने की प्रक्रिया शुरू होगी, जिसमें मौजूदा साल की डिमांड को भी शामिल किया जाएगा।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY