टैगोर नगर स्थित अस्पताल में भर्ती 17 वर्षीय युवती की हुई मौत, परिजनों ने लगाया लापरवाही का आरोप


Protest by people

टैगोर नगर स्थित एक अस्पताल में भर्ती 17 वर्षीय युवती की मौत के बाद परिजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर अस्पताल में दोपहर को प्रदर्शन किया। दूसरी तरफ अस्पताल के प्रमुख ने आरोपों को गलत बताया। मां सोमा देवी ने कहा कि दस दिन पहले बेटी को इलाज के लिए भर्ती करवाया गया था। उनकी बेटी ठीक हो गई थी लेकिन वीरवार सुबह दी गई दवा के बाद अचानक उसकी हालत बिगड़ गई और उसने दम तोड़ दिया। उनका कहना था कि वीरवार को दी गई गलत दवा की वजह से उसकी मौत हुई। उधर अस्पताल के प्रमुख का कहना है कि युवती को 22 नवंबर को भर्ती करवाया गया था। उसकी आंतड़ियां ब्लॉक हो गई थी और फट गई थी। उसका 23 नवंबर को ऑपरेशन हुआ। इसके बाद युवती के स्वास्थ्य में काफी सुधार हो गया था।

युवती की मां की आर्थिक स्थिति बेहतर न होने से अस्पताल की तरफ से फ्री दवाएं भी दी गईं। इस दौरान युवती की मां व दूसरे लोगों ने इलाज पर संतुष्टि जता रही थी। पर वीरवार सुबह साढ़े छह बजे अचानक युवती को उल्टियां हुई। करीब साढ़े आठ बजे कार्डिक अरेस्ट हो गया। डॉक्टरों ने युवती को बचाने की पूरी कोशिश की।

एक लाख बिल देने को कहा तो लगाए आरोप

अस्पताल के डॉक्टर ने कहा कि इलाज में लापरवाही के आरोप गलत है। युवती की मौत के बाद जब करीब एक लाख रुपये का बिल जमा करवाने के लिए कहा गया, तब उन पर इलाज में लापरवाही के झूठे आरोप लगाए गए। वहीं उनकी ओर से बिल माफ कर दिया गया। हालांकि बाद में दोनों पक्षों में समझौता हो गया।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY