पिछले पांच सालों में सबसे ज्यादा महंगा हुआ पैट्रोल, आने वाले दिनों में 4 रुपये से ज्यादा बढ़ सकते है दाम


fuel prize may Hike

देश पहले से महंगाई की मार से जूझ रहा है वहीं दूसरी तरफ महंगाई को और बढ़ने में मदद पैट्रोल और डीजल के दामों में हो रही बढ़ोतरी है क्योंकि अगर पैट्रोल और डीजल के दामों में बढ़ोतरी होती है तो लोगों को परिवहन के माध्यम से मिलने वाली चीजें और महंगी मिलती है इसी बीच लोगों को आने वाले दिनों में और महंगाई का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि की आने वाले दिनों में पैट्रोल और डीजल के दामों में बढ़ोतरी होने के आसार बन रहें है| दरअसल कर्नाटक चुनाव में मतदान से पहले 19 दिन तक तेल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल के दाम नहीं बढ़ाए, लेकिन अब तेजी से बढ़ रहे हैं। 14 मई से महज 5 दिन में दिल्ली में पेट्रोल 98 पैसे और डीजल 1 रुपए 15 पैसे महंगा हो चुका है। शुक्रवार को यहां पेट्रोल 75.61 रुपए और डीजल 67.08 रु. लीटर हो गया। डीजल तो अब तक के सबसे महंगे दाम पर बना हुआ है, वहीं पेट्रोल भी सितंबर 2013 (76.06 रु.) के बाद सबसे ज्यादा है। वहीं, मुंबई में पेट्रोल 83.45 और डीजल 71.42 रुपए/लीटर बिक रहा है।

19 दिन तक तेल कंपनियों का मार्जिन कम रहा

– ब्रोकरेज फर्म कोटक इक्विटीज का कहना है कि 19 दिनों तक दाम नहीं बढ़ाने से तेल कंपनियों का मार्जिन कम रह गया है। पहले ग्रॉस मार्केटिंग मार्जिन 2.70 रु. लीटर था, जो अब 50 से 70 पैसे है। अगर तेल कंपनियां चुनाव से पहले के मार्जिन पर जाएं तो पेट्रोल 4 से 4.55 रुपए और डीजल 3.5 से 4 रुपए तक महंगा हो जाएगा।

अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क रेट 5.6% तक बढ़े, देश में कीमत 1.3% तक बढ़ी

– भारतीय कंपनियां अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क रेट के हिसाब से रोजाना दाम तय करती हैं। 24 अप्रैल को पेट्रोल का बेंचमार्क रेट 78.84 डॉलर था जो अब 5.65% बढ़कर 83.30 डॉलर प्रति बैरल हो गया है। डीजल का रेट 84.68 डॉलर से 5% बढ़कर 88.93 डॉलर हुआ है, लेकिन इस दौरान दिल्ली में पेट्रोल के दाम 0.92% और डीजल के 1.3% बढ़े हैं।

  • 2.3K
    Shares

LEAVE A REPLY