पंजाब के लोगों को एक बार फिर से लगने वाला है झटका – Powercom ने की बिजली दरों में बढ़ोतरी की तैयारी


electricity

लगातार बिजली दरों में वृद्धि के झटके सह रहे पंजाब के लोगों को फिर से झटका लग सकता है क्योंकि वित्तीय संकट में फंसे पंजाब राज्य बिजली निगम लिमिटेड (पॉवर काम) ने आगामी वित्त वर्ष यानि 1 अप्रैल, 2019 से 31 मार्च, 2020 के लिए अपने प्रस्ताव में बिजली दरों में 8 से 14 प्रतिशत वृद्धि किए जाने की मांग पंजाब राज्य बिजली रैगुलेटरी कमीशन से की है। कमीशन द्वारा इस पर अंतिम फैसला लिया जाएगा। कमीशन ने पिछली बार चालू वित्त वर्ष के लिए बिजली दरों में 2.17 प्रतिशत वृद्धि की मंजूरी दी थी।

पावर कॉम ने कमीशन के पास दायर की अपनी वाॢषक वित्तीय रिपोर्ट (ए.आर.आर.) में कहा कि बिजली खरीद की लागत 19959.34 करोड़ रुपए होगी। इसके अलावा कर्मचारियों के खर्च 4762.4 करोड़ रुपए होंगे, बुनियादी ढांचों का मूल्य घटाव यानि डैपरीसिएशन 1142.66 करोड़ रुपए होगा और कर्जे पर ब्याज 3868.09 करोड़ रुपए होने का अनुमान है। बिजली पैदावार की लागत 4822.40 करोड़ रुपए रह सकती है जबकि ट्रांसमिशन के लिए 1332.44 करोड़ रुपए का भुगतान पी.एस.टी.सी.एल. को करना पड़ेगा।

पावर कॉम के सूत्रों के मुताबिक ब्याज का भुगतान पावर कॉम की कमर तोड़ रहा है जबकि इसके अलावा पंजाब सरकार द्वारा पावर कॉम को मुफ्त बिजली बदले सबसिडी का भुगतान भी देरी से किया जा रहा है। यदि पावर कॉम ने चालू वित्त वर्ष दौरान सरप्लस बिजली बेच कर 1000 करोड़ रुपए न कमाए होते तो उसको और भी गंभीर स्थिति का सामना करना पड़ता। पावर कॉम के सी.एम.डी. इंजी. बलदेव सिंह सरां का कहना है कि अगले वर्ष पछवाड़ा कोयला खान शुरू हो जाने से पावर कॉम को तकरीबन 650 करोड़ रुपए की अतिरिक्त बचत होनी शुरू हो जाएगी जिसका बहुत लाभ होगा।


LEAVE A REPLY