खुफिया एजेंसियों को अमृतसर ब्लास्ट मामले में पाक में बैठे KLF मुखी हरमीत सिंह की संलिप्तता के मिल गए थे संकेत


पाकिस्तान में बैठे खालिस्तान लिबरेशन फोर्स (के.एल.एफ.) का मुखी हरमीत सिंह उर्फ पी.एच.डी. की अमृतसर बम धमाके करवाने के पीछे संलिप्तता के संकेत पहले ही मिल गए थे।  हरमीत तथा के.एल.एफ. की बम धमाका करवाने के पीछे छिपी साजिश का पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने भी खुलासा किया है। कैप्टन ने स्पष्ट तौर पर कहा कि ग्रेनेड फैंकने की साजिश के.एल.एफ. ने रची थी। 72 घंटों में जिस तरह से कैप्टन सरकार ने अमृतसर बम धमाके के लिए जिम्मेदार एक आतंकी को गिरफ्तार कर लिया है, से राज्य पुलिस का मनोबल बढ़ा है। साथ ही अब पुलिस का आतंकियों पर दबाव भी बढ़ जाएगा। हरमीत सिंह की तलाश एन.आई.ए. (राष्ट्रीय जांच एजैंसी) को भी है जो पंजाब में 2016-17 में हुई टार्गेट किलिंग के मामलों को लेकर जांच कर रही है। उसमें भी हरमीत उर्फ पीएच.डी. का नाम सामने आ रहा है। वह पिछले 2 दशकों से पाकिस्तान में बैठा हुआ है। वह अमृतसर जिले से संबंध रखता है। उसने डॉक्टरेट किया हुआ है, इसलिए वह अपने नाम के पीछे पी.एच.डी. लगाता है।

पंजाब के नौजवानों को सोशल मीडिया के जरिए किया जा रहा है गुमराह

राज्य इंटैलीजैंस के अधिकारियों का मानना है कि हरमीत ने पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया के माध्यम से पंजाब के नौजवानों को गुमराह करने की मुहिम चलाई हुई है। इंटैलीजैंस एजैंसियों की नजरें हरमीत की गतिविधियों पर पिछले काफी समय से टिकी हुई हैं। सोशल मीडिया पर हरमीत के साथ सम्पर्कों में रहने वाले नौजवानों पर भी पुलिस व इंटैलीजैंस एजैंसियों की नजरें लगी हुई हैं। हरमीत को आई.एस.आई. अपनी तरफ से पूरा समर्थन दे रही है। दिलचस्प बात यह भी है कि हरमीत तथा के.एल.एफ. ने कश्मीर के आतंकी संगठनों के साथ हाथ मिलाया हुआ है।

अमृतसर पर हमला करवाने वाला जाकिर मूसा जनरल बाजवा का फौजी : आर.पी. सिंह

भाजपा नेता आर.पी. सिंह ने कहा है की मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह भी इस बात को मानते हैं कि अमृतसर हमले के पीछे पाकिस्तान की खुफिया एजैंसी आई.एस.आई. का हाथ है, जिसके मुखिया जनरल कमर जावेद बाजवा हैं। अमृतसर पर ग्रेनेड हमला करवाने वाला जाकिर मूसा जनरल बाजवा का फौजी है जिसे पंजाब में दहशत फैलाने के लिए तैनात किया गया है।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY