भारत और नेपाल के बीच शुरू हुई रेल सेवा – रेल यात्रियों के साथ नेपाल पहुंची भारत की पहली पैसेंजर ट्रेन


Indian Railway

नेपालवासियों को कल के दिन भारत से रेल संपर्क की एक नई सौगात मिली. भारत से यात्रियों को लेकर पहुंची पहली पैसेंजर ट्रेन के स्वागत के लिए पूर्वी नेपाल के औद्योगिक शहर बिराटनगर के स्टेशन पर हजारों लोग उपस्थित थे. इस लाइन पर गाड़ियों को चालने का अभी परीक्षण चल रहा है. भारतीय रेल नेटवर्क को नेपाल से जोड़ने वाला यह मार्ग 18.1 किलोमीटर का है. रेलगाड़ी पर पर भारत और नेपाल के ध्वज फहरा रहे थे. यह बिहार में बथनाहा से नेपाल के मोरांग जिले में कटहरी होते हुए कटहरी स्टेशन पर पहुंची.

अधिकारियों ने बताया कि नेपाल की ओर हजारों की संख्या में लोगों ने स्टेशन पर पहुंचकर इस रेलगाड़ी का स्वागत किया. इस रेल लाइन पर रेलगाड़ी के आवागमन का परीक्षण भारतीय रेल के अभियंताओं की निगरानी में किया गया. इसमें निर्माण कंपनी के अधिकारी भी शामिल थे. इस 18.1 किलोमीटर के रेलमार्ग का 13.1 किलोमीटर हिस्सा नेपाल में पड़ता है. इस रेलमार्ग की अनुमानित लागत 4.48 अरब डॉलर है. भारत ने यह धन भारत अपनी आर्थिक सहयोग नीति के तहत खर्च कर रहा है. हालांकि नेपाल और भारत ने इस योजना को दो वर्ष में पूरा करने का लक्ष्य रखा था लेकिन भूमि के मुआवजा समेत अन्य विवादों के के चलते इसमें देरी हुई.

दिसंबर में शुरू हो सकती है नियमित यातायात सेवा

भारत और नेपाल के बीच ब्रॉड गेज पर पहले यात्री ट्रेन के इस साल दिसंबर में शुरू होने की संभवना है. यह ट्रेन बिहार में जयनगर से नेपाल में जनकपुर जोन के धनुषा जिले के कुर्था तक चलेगी. जय नगर कुर्था रेल खंड की लंबाई 34 किलोमीटर है. सूत्रों ने बताया कि जयनगर में संभवत: एक आव्रजन चेक नाका बनाया जाएगा जिसकी जिम्मेदारी आव्रजन ब्यूरो या राज्य सरकार की होगी. इस रास्ते से आनेजाने के लिए भारतीय और नेपाली नागरिकों को वीजा की जरूरत नहीं होगी.

  • 77
    Shares

LEAVE A REPLY