जेल में राम रहीम के समर्थक की हत्‍या, इलाके में भारी तनाव – केस दर्ज न होने तक नहीं करेंगे अंतिम संस्कार


 

बरगाड़ी मामले के मुख्य साजिशकर्ता डेरा प्रेमी व गुरमीत राम रहीम के समर्थक महिंदरपाल सिंह उर्फ बिट्टू की नाभा स्थित नई जिला जेल हत्‍या कर दी गई। जेल में दो कैदियों ने लोहे के सरिये से हमला कर उसकी हत्या कर दी। महिंदर पाल बिट्टू की हत्या से डेरा प्रेमी भड़क गए हैं। सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा की 45 मेंबरी कमेटी ने एलान किया है कि जब तक बिट्टू के हत्यारों पर कार्रवाई नहीं होती तब तक शव का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा।

शनिवार देर रात नाभा में पोस्टमार्टम के बाद बिट्टू का शव रविवार सुबह करीब सात बजे कोटकपूरा स्थित डेरा के नामचर्चा घर लाया गया। अंतिम संस्कार को लेकर दिनभर चली अटकलों के बीच दोपहर तीन बजे कमेटी ने अंतिम संस्कार न करने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि दो कैदियों पर कार्रवाई और डेरा प्रेमियों पर दर्ज बेअदबी के सभी केस रद करने की सूरत में ही वे अंतिम संस्कार करेंगे। प्रशासन ने कमेटी को मनाने की कोशिश की, लेकिन कामयाबी नहीं मिली।

बिट्टू की हत्या के बाद राज्य भर में तनाव को देखते हुए शनिवार देर रात ही शव का पोस्टमार्टम करवा दिया था। आम तौर पर सूर्यास्त के बाद शव का पोस्टमार्टम नहीं किया जाता है। शव के कोटकपूरा स्थित नामचर्चा घर में पहुंचते ही बड़ी संख्या में डेरा प्रेमी वहां पहुंच गए। राज्य भर में डेरों के बाहर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

कमेटी का आरोप- दो साल से चल रहीं डेरे के खिलाफ साजिशें

45 मेंबरी कमेटी के सदस्य ङ्क्षछदरपाल सिंह ने कहा कि डेरा सिरसा मानवता व भलाई के कार्यों को समर्पित है। पिछले दो साल से उनके खिलाफ साजिशें रची जा रही हैं। उन्हें बिना वजह बदनाम करके पंजाब की अमन-शांति को आग लगाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि डेरा प्रेमी बिट्टू की कुर्बानी को बेकार नहीं जाने दिया जाएगा। हम जबरन अंतिम संस्कार नहीं करने देंगे। डेरा के राजनीतिक विंग के चेयरमैन राम सिंह, 45 मेंबर कमेटी के सदस्य जगजीत सिंह, गुरजीत सिंह, जगजीत सिंह, हरचरण सिंह, बसंत सिंह, गुरदास सिंह कोटभाई, सुखदेव सिंह मल्ला, एडवोकेट केवल सिंह, नेक सिंह, राम सिंह, गुरचरण कौर, परमजीत सिंह सरपंच ने कहा कि वे डेरा के निर्णय के साथ हैं।

बेटे ने कहा- कत्ल के पीछे बड़ी साजिश की आशंका

मृतक महिंदर पाल बिट्टू के बेटे अरमिंदर मनचंदा ने पिता की हत्या के पीछे बड़ी साजिश की आशंका जताई है। अरमिंदर के मुताबिक शनिवार दोपहर को ही मैंने परिवार सहित पिता से नाभा जेल में मुलाकात की थी। कोटकपूरा लौटते ही हत्या की सूचना मिली। फरवरी में जब मेरे पिता फरीदकोट जेल में बंद थे तो उनकी जान को खतरे की आशंका के चलते उन्हें नाभा जेल शिफ्ट किया था।

यह घटना जेल प्रशासन की गंभीरता पर सवाल खड़ा करती है। शनिवार की मुलाकात के दौरान उनके पिता ने कहा था कि जेल में कुछ कैदी उन्हें घूर कर देखते हैं। उन्होंने पिता को जेल सुपरिंटेंडेंट से बात करने को कहा था। महिंदरपाल बिट्टू के परिवार में बुजुर्ग पिता राम लाल, पत्नी संतोष कुमारी, दो बेटे अरमिंदर व दविंदर, एक बेटी अमन हैं।

सिर पर चोट से ही हुई थी मौत, दोनों आरोपित रिमांड पर

पटियाला: बिट्टू की हत्या के आरोपित फतेहगढ़ साहिब के गांव भगड़ाना के मनिंदर सिंह और मोहाली के गांव झियूरहेड़ी के गुरसेवक सिंह पर सदर थाना नाभा में हत्या का केस दर्ज किया गया है। दोनों आरोपितों को रविवार को अदालत ने चार दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया। वहीं, पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार महिंदरपाल की मौत सिर पर चोट लगने से ही हुई है। शरीर पर कई जगह चोट के गहरे निशान भी थे।


LEAVE A REPLY