सुखबीर सिंह बादल के खिलाफ बगावत हुई तेज, लुधियाना सीट पर भी फंसा पेच


Punjab former deputy CM Sukhbir Singh Badalपंजाब में लोकसभा चुनावों का बिगुल बज चुका है। चुनावों की तैयारियों के मुकाबले अकाली दल में सुखबीर सिंह बादल के खिलाफ बगावत कहीं ज्यादा तेजी से हो रही है। इसके तहत मौजूदा सांसदों में खडूर साहिब से रंजीत सिंह ब्रह्मपुरा के बाद अब फिरोजपुर के शेर सिंह घुबाया का नाम भी जुड़ गया है।

उन्होंने सुखबीर की अगुवाई में अकाली दल से लोकसभा चुनाव लडने से इंकार कर दिया है। इससे पहले संगरूर से सांसद रहे सुखदेव सिंह ढींडसा ने भी बुजुर्ग होने का हवाला देते हुए अगला लोकसभा चुनाव लडने से मना कर दिया था। अब साफ हो गया है कि अकाली दल को लोकसभा चुनाव में 3 सीटों के लिए नए उम्मीदवार ढूंढने होंगे।

अगर बाकी सीटों की बात करें तो बठिंडा में हरसिमरत बादल व आनंदपुर साहिब के मौजूदा एम.पी. प्रेम सिंह चंदूमाजरा को दोबारा मैदान में उतारा जा सकता है। इसके अलावा जालंधर से पिछला चुनाव लडऩे वाले पवन टीनू अब फिर से विधायक बन चुके हैं और उनकी जगह नरेश गुजराल के नाम की चर्चा सुनने को मिल रही है। पटियाला सीट पर पिछली बार चुनाव लडने वाले दीपइंद्र सिंह ढिल्लों की कांग्रेस में वापसी हो चुकी है। वहां से परनीत कौर के मुकाबले के लिए अकाली दल को मजबूत उम्मीदवार की तलाश करनी होगी।

फतेहगढ़ साहिब सीट से पिछली बार अकाली दल की टिकट पर चुनाव लडने वाले कुलवंत सिंह अब मोहाली के मेयर बन चुके हैं। अब इस सीट के लिए भी अकाली दल को नया चेहरा चाहिए। फरीदकोट से 2 बार अकाली दल की एम.पी. रही परमजीत कौर गुलशन पिछला चुनाव हार गई थी। उनको इस बार टिकट मिलना मुश्किल लग रहा है। अकाली दल उस एरिया में मजबूत दलित चेहरे की तलाश कर रहा है।

लुधियाना की सीट अमृतसर के साथ बदलने या सैलीब्रिटी को लेकर हो रही चर्चा

लोकसभा चुनाव के दौरान लुधियाना के लिए उम्मीदवार का फैसला करना भी अकाली दल के लिए टेढ़ी खीर साबित हो रहा है, क्योंकि इस सीट पर पहले चुनाव लड़ चुके शरणजीत ढिल्लों व मनप्रीत अयाली इस बार चुनाव लडऩे के इच्छुक नहीं बताए जा रहे हैं। इसके मद्देनजर पूर्व मंत्रियों हीरा सिंह गाबडिया व महेशइंद्र ग्रेवाल के नाम पर विचार हो रहा है। अगर इनकी रिपोर्ट ठीक नहीं हुई तो अकाली दल के पास जो दूसरे विकल्प बचे हैं उनमें अमृतसर के साथ सीट बदलने के अलावा सन्नी दियोल या अक्षय कुमार को उम्मीदवार बनाने की चर्चा सुनने को मिल रही है।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY