पंजाब सरकार AAP MLA संधोआ पर 2010 के पर्चे की जांच करवाएं – अमनदीप सिंह बैंस


आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता एवं आप विधायकों को कैनेडा को शिकायत करने वाले अमनदीप सिंह बैंस ने कैनेडियन सरकार द्वारा आप विधायक अमरजीत सिंह संधोआ को कैनेडा में एंट्री न देने व भारत डिपोर्ट करने का स्वागत  करते हुए कहा कि इस मामले में उनके द्वारा संधोआ पर अदालत में चल रहे केस व अन्य गतिविधियों के बारे में कैनेडियन एंबैसी को जानकारी दी गई थी। जिसके आधार पर वहां की सरकार ने नोटिस लेते हुए यह कदम उठाया है जोकि स्वागत योगय है। उन्होंने यह भी कहा कि भले ही कैनेडा व भारत में अलग अलग कानून है तथा भारत में जब तक कोई इल्जाम साबित नहीं होता तब तक दोषी नहीं होता लेकिन पंजाब सरकार को अब चाहिए कि जो तथ्य किसी समय में निष्कर्ष तक नहीं पहुंचे, उनको पंजाब सरकार जांच करवाए तथा 2010 के पर्चे की भी जांच होनी चाहिए, तब क्यों नहीं हुआ। इसके अलावा आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल को भी स्पष्ट करना चाहिए कि क्या वह इन बातों के हक में है या फिर कोई एक्शन ले सकते है क्योंकि इसे अधिक गंभीर आरोप क्या हो सकते है। बैंस ने कहा कि जुर्म में सीमाएं नहीं देखी जाती है तथा यदि सरकार कहीं भी जुर्म हुआ है और उसका नोटिस लेती है तो यह बात स्वागतयोगय है। साथ ही उन्होंने कहा कि वह पार्टी के एंटी करप्शन विंग के समय में इस बारे में मिली शिकायतों को केजरीवाल के समक्ष लेकर गए थे लेकिन वहां से उन्हें निराशा ही हाथ लगी। जबकि सही मायनों में सवाल यह है कि धर्मवीर गांधी, खालसा व सुच्चा सिंह छोटेपुर जैसे सीनियर नेताओं पर आरोप कौन से साबित हुए थे।

  • 77
    Shares

LEAVE A REPLY