नए वर्ष में शिक्षा व्यवस्था में होंगे कई बदलाव, छात्रों पर पड़ेगा असर


Education System in Punjab

आज से नया साल 2019 की शुरुआत हो चुकी है इस नये साल में प्रदेश सरकार अपने कार्यक्रमों कई बदलाव करने वाली है जिनमें पंजाब के छात्रों को दी जा रही शिक्षा भी प्रमुख है| नए वर्ष में पंजाब में शिक्षा व्यवस्था में कई बदलाव होने जा रहे है। इससे आपके बच्‍चों की शिक्षा पर काफी असर पड़ेगा। राज्‍य में सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों के बस्ते का बोझ कम करने की तैयारी है तो स्मार्ट प्राइमरी स्कूलों में अंग्रेजी पर विशेष जोर दिया जाएगा। यहां पढ़ाई अंग्रेजी माध्यम में होगी। सरकार का मानना है कि अंग्रेजी पर जोर देकर सरकारी स्कूल भी प्राइवेट स्कूलों का मुकाबला कर सकते है। सरकारी स्कूलों में अंग्र्रेजी पर विशेष फोकस न होने के कारण अभिभावक यहां बच्चों के दाखिले में रुचि नहीं दिखाते है।

पाठ्यक्रम होगा नया, सभी किताबें भी होंगी ऑनलाइन – अंग्रेजी भाषा पर होगा जोर

कैप्‍टन अमरिंदर सिंह सरकार की योजना के मुताबिक अगले सत्र में नए पाठ्यक्रम से लैस नई किताबें स्कूलों में आएंगी। इनमें कुछ नए चैप्टर जोड़े जाएंगे तो कुछ को हटा दिया जाएगा। प्राइमरी विंग पर शिक्षा विभाग विशेष ध्यान देने जा रहा है और किताबों का बोझ कम करने की तैयारी है। वर्तमान में प्राइमरी विंग में छह किताबें हैं जिसे पांच करने की योजना है। इसके अलावा 2019 में सभी किताबें ऑनलाइन उपलब्ध होंगी। अब किताबों की कमी होने पर विद्यार्थियों की पढ़ाई पर ज्यादा असर नहीं पड़ेगा।

प्राइवेट स्कूलों की तरह सरकारी स्कूलों में भी स्मार्ट क्लास में पढ़ाई करेंगे विद्यार्थी

सरकारी स्कूलों को स्मार्ट स्कूल बनाने का काम युद्ध स्तर पर चल रहा है। नए शिक्षा सत्र में विद्यार्थी प्राइवेट स्कूलों की तरह स्मार्ट क्लासों में बैठकर पढ़ाई करेंगे। विभाग ने कुछ स्कूलों को फंड देकर स्मार्ट बनाया है, जबकि कुछ स्कूलों को शिक्षक अपने स्तर पर स्मार्ट बना रहे हैं।


LEAVE A REPLY