हमलावरों ने हथियारों के साथ हमला कर नौजवान को उतारा मौत के घाट, चुनाव आचार संहिता लागु होने के बाद भी हो रहा हथियारों का इस्तेमाल बना एक सवाल


 

Three Persons Brutally Murdered in Samrala

मामूली रंजिश के चलते कल देर रात को गांव रुमी में एक युवक की बेरहमी से हत्या कर दी गई और उसके पिता को घायल कर दिया, जोकि इस समय सिविल अस्पताल जगराओं में उपचारधीन है। इस कत्ल के आरोप में थाना सदर में पुलिस ने गुरजीत सिंह उसका पिता यादविंदर सिंह, गांव के मौजूदा कांग्रेसी सरपंच कुलदीप सिंह, पंच गुरमीत सिंह उर्फ मिंटू, गुरजंट सिंह उर्फ जंटा और तीन अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

मृतक के पिता जगविंदर सिंह पुत्र प्यारा सिंह निवासी गांव रुमी ने आरोप लगाया कि उसके लड़के मनमिंदर सिंह के साथ गांव के ही जगविंदर सिंह ने मामूली बात को लेकर झगडा किया। उसके बाद वह अपने पिता यादविंदर सिंह और गांव के सरपंच कुलदीप सिंह, पंच गुरमीत सिंह मिंटू, गुरजंट सिंह उर्फ जंटी तथा तीन अज्ञात लोगों को साथ लेकर उनके घर आ पहुंचे। इस दौरान उन्होंने घर के दरवाजे तोड़ने शुरु कर दिए और हवाई फायर किए। शोर सुन जब आस-पास के लोग इकट्ठा हुए तो इनमें से एक ने रिवाल्वर के साथ धमका कर लोगों को दख्ल न देने की हिदायत दी। इस दौरान उन्होंने घर में घुसकर उसके पुत्र मनमिंदर पर किरपान, गंडासे आदि से वार करने शुरु कर दिए, जोकि उसके सिर और गर्दन पर लगे। जगविंदर ने कहा कि जब मैने उन्हें हटाने की कोशिश की तो उन्होने मुझ पर भी वार कर घायल कर दिया। मनमिंदर जब बुरी तरह से घायल होकर नीचे गिर गया तो भी आरोपितों ने उसके साथ मारपीट जारी रखी। जब वह लोग घर से चले गए तो आसपास के लोगों ने उन दोनों को सिविल अस्पताल पहुंचाया, लेकिन मनमिंदर की अस्पताल पहुंचते ही मौत हो गई।

मृतक मनमिंदर सिंह मैडीकल लैब में करता था काम

मृतक मनमिंदर सिंह का पिता जगविंदर सिंह मेहनत मजदूरी का काम करता है और उसका एक भाई स्पेन में गया हुआ है और बहन की शादी हो चुकी है। मनमिंदर जगराओं में एक प्राइवेट मैडीकल लैब में नौकरी करता था।

पुलिस द्वारा आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए की जा रही है छापेमारी

थाना सदर के प्रभारी इंसपेक्टर किक्कर सिंह ने बताया कि गांव रुमी में हुए कत्ल के संबध में आठ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। जिन्में पांच लोगों की पहचान हो चुकी है जबकि तीन अज्ञात हैं। इन लोगों की गिरफ्तारी के लिए विभिन्न टीमें गठित की गई हैं जोकि छापेमारी कर रही हैं। जल्द ही सभी आरोपित गिरफ्तार कर लिए जाएंगे।

चुनाव के बावजूद असलाह बाहर

देश भर में लोक सभा चुनाव हो रहे हैं, जिसके चलते चुनाव आचार संहिता लागू है और लोगों का असलाह पुलिस के पास जमा करवाने के निर्देश जारी हैं। उसके बावजूद लोग खुलेआम असलाह अपने साथ लिए घूम रहे हैं। गांव रुमी में शनिवार देर रात हुई कत्ल की घटना ने इस बात की पुष्टि भी कर दी है कि पुलिस अभी तक असलाह जमा करवाने में नाकाम रही है। अगर गांव रुमी की घटना के समय आरोपितों के पास असलाह ना होता तो शायद मनमिंदर की जान बच सकती थी।


LEAVE A REPLY