श्री माता वैष्णो देवी जाने वाले भगतों के लिए खुशखबरी – भैरों घाटी जाने के लिये 25 दिसंबर से शुरू होगी केबल कार सेवा


Mata Vaishno Devi

पिछले काफी समय से माता वैष्णो देवी से भैरों घाटी जाने वाले भगत जिस केबल कार सेवा का इंतजार कर रहे थे आखिरकार उस केबल कार सेवा के शुरू होने की तारीख का ऐलान आज हो गया है जो की इसी महीने 25 दिसंबर को शुरू हो जायेगी| माता के दर्शनों के बाद भैरों घाटी जाने वाले श्रद्धालुओं को पैसेंजर केबल कार समिर्पत की जा रही है। श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड 24 को इसका ट्रायल करेगा और उस दिन यात्रियों को ट्रायल बेस पर निशुल्क कार सेवा दी जाएगी। पैसेंजर केबल कार शुरू होने से यात्रियों के लिए भैरों घाटी की कठिन चढ़ाई अब आसान हो जाएगी। श्राइन बोर्ड का मानना है कि यह सेवा भगतों के लिये वरदान साबित होगी। भैरों घाटी भवन से मात्र तीन किलोमीटर दूर है पर यह खड़ी और सीधी चढ़ाई है जो की भगतों के लिये बहुत ही कठिन है। दिव्यांग, बजुर्ग और मरीज यहां तक नहीं पहुंच पाते हैं।

पौराणिक कथाओं के अनुसार भैरों दर्शन के बिना अधूरी है यात्रा

माता वैष्णो की यात्रा भैरों घाटी जाए बिना पूरी नहीं मानी जाती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार माता वैष्णवी ने भैरों को वरदान दिया था कि जो भी मेरे दर्शन करने आएगा वो जब तक तुम्हारे दर्शन नहीं करेगा, उसकी यात्रा को पूरा नहीं माना जाएगा। यात्रियों को मात्र सौ रूपये किराये में भैरों घाटी की यात्रा मिल जाएगी।

75 करोड़ की लागत से पूरी हुई केबल कार परियोजना

केबल कार परियोजना वर्ष 2014 में शुरू हुई थी और इसे 75 करोड़ की लागत से पूरा किया गया है। स्विटजरलैंड की गर्वेन्ता एजी और दामोदर रोपवे कंपनी ने इस काम को पूरा किया है। इस केबल कार के अधिकतर पुर्जे स्विटजरलैंड से मंगवाए गए हैं।

एश्यिा की सबसे बड़ी केबल कार सेवा

भैरों घाटी के लिए भवन से शुरू होने वाली यह कार सेवा एश्यिा की सबसे बड़ी केबल कार सेवा है। एक बार में करीब 45 श्रद्धालु इसमें सफर कर सकेंगे। इस सेवा को सिर्फ दिन में ही रखा गया है। हर दिन करीब 6 से आठ हजार श्रद्धालु इसका लाभ उठा सकेंगे। इसमें सुरक्षा के साथ-साथ फस्र्ट एड मेडिकल सुविधा भी होगी। भवन में इसके लिए मैट्रो की तरह काउंटर बनाए गए हैं।


LEAVE A REPLY