पंजाब में आतंकी वारदातों के लिए ग्लोबल ग्राऊंड तैयार – पुलिस और सुरक्षा एजैंसियां हाई अलर्ट पर


Terrorism

आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत द्वारा पंजाब में दोबारा खालिस्तान लहर के उभरने की आशंका और खालिस्तान समर्थक रैडिकल ग्रुप सिख फार जस्टिस की तरफ से सेनाध्यक्ष को रैफरैंडम 2020 से दूर रहने की नसीहत ने खुफिया एजैंसियों को सतर्क कर दिया है। पंजाब में हिंदू नेताओं की हत्याओं, पुलिस थानों पर हो रहे हमले और आतंकियों के गैंगस्टरों के साथ हाथ मिलाकर बड़ी वारदातों को अंजाम देने से इस बात के पुख्ता सबूत मिल रहे हैं कि पंजाब में अशांति फैलाने के लिए ग्लोबल ग्राऊंड तैयार हो रही है।

3 फैक्टर्स, जो रोल अदा कर रहे

ग्लोबल फंडिंग

खुफिया एजैंसियों के अनुसार पंजाब में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए ग्लोबल स्तर पर फंड इकट्ठा हो रहा है। कनाडा, यू.के. और यूरोप के कई देशों में खालिस्तान समर्थकों द्वारा मीटिंगें कर फंड इकट्ठा किया जा रहा है। इसका उपयोग पंजाब में आतंकियों, गैंगस्टरों और पूर्व आतंकियों के परिवारों को फंडिंग के रूप में हो रहा है।

social media

सोशल साइट्स

खालिस्तान लहर दोबारा शुरू करने के लिए इंटरनैट पर कई सोशल साइट्स सक्रिय हैं जो धार्मिक भावनाएं भड़का रही हैं। खुफिया एजैंसियों के पास ऐसी कई साइट्स का ब्यौरा है, जिन पर एजैंसियां पूरी तरह से नजर रखे हुए हैं। इन साइट्स को चलाने वाले संगठन धार्मिक भावनाएं भड़काने के साथ-साथ फंड इकट्ठा करवाने में विशेष भूमिका निभा रही हैं।

अलगाववादियों में गठजोड़

खुफिया एजैंसियों की जानकारी के अनुसार पंजाब में अशांति फैलाने के लिए बड़े स्तर पर अलगाववादियों में गठजोड़ हुआ है। बीते माह रैफरैंडम 2020 की रैली से पूर्व इन अलगाववादियों का एक मंच पर आना भी खुफिया एजैंसियों का ध्यान इस तरफ खींच रहा है कि पंजाब में कोई बड़ी आतंकी घटना घट सकती है।

पंजाब के बिगड़े माहौल से आतंकवाद को मिल रही ग्राऊंड

बरगाड़ी और बहबलकलां कांड को लेकर पैदा हो रहा माहौल आतंकवाद के लिए ग्राऊंड तैयार कर रहा है। पिछले दिनों पंजाब में अल कायदा के कश्मीरी आतंकी संगठन अंसार गजवत-उल-हिंद (ए.जी.एच.) तथा खालिस्तान गदर फोर्स आतंकी संगठन का खुलासा पुलिस कर चुकी है। इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की हत्या की साजिश का भी पर्दाफाश हुआ है। हत्या के लिए उत्तर प्रदेश के शामली जिले से हथियार लूटे गए और इस कनैक्शन में शामली पुलिस 3 बदमाशों को गिरफ्तार कर चुकी है।

एक दर्जन और हो सकते हैं आतंकी मॉड्यूल पंजाब में

कश्मीरियों का पंजाब आना-जाना लगा रहता है और सर्दियों में घाटी में बर्फबारी के बीच कश्मीरियों का रुख पंजाब की तरफ हो जाता है। खुफिया एजैंसियों के मुताबिक पंजाब में पिछले महीनों में दो मॉड्यूल तोड़े जा चुके हैं । अभी भी एक दर्जन और मॉडूयल होने की आशंका जताई जा रही है।

पंजाब पुलिस, एन.आई.ए. और इंटैलीजैंस एजैंसी का ज्वाइंट ऑप्रेशन

पंजाब में घट रही घटनाओं पर पंजाब पुलिस, एन.आई.ए. और इंटैलीजैंस एजैंसियों की पैनी नजर है। यही कारण है कि ज्वाइंट ऑप्रेशन के तहत पंजाब पुलिस, जम्मू-कश्मीर पुलिस ने इंटैलीजैंस इनपुट पर जालंधर के 2 शिक्षण संस्थानों पर छापेमारी कर खतरनाक हथियारों की बरामदगी कर थाना मकसूदां पर हुए हमले का मामला भी सुलझाया है।

पाकिस्तान के नापाक इरादों को अंजाम देने की कमान आसिम मुनीर के हाथ

पाकिस्तान के पूर्व आर्मी इंटैलीजैंस चीफ लैफ्टिनैंट जनरल आसिम मुनीर के आई.एस.आई. प्रमुख बनने के बाद पंजाब में आतंकी गतिविधियां बढऩे और आतंकी घुसपैठ के लिए पंजाब के साथ लगती भारत-पाक सीमा का इस्तेमाल करने की आशंका बढ़ गई है। आसिम मुनीर ने आई.एस.आई. प्रमुख का पद लैफ्टिनैंट जनरल नावेद मुख्तार की 25 अक्तूबर को सेवानिवृत्ति के बाद संभाला है। आम तौर पर पाकिस्तान की खुफिया एजैंसी आई.एस.आई. प्रमुख की नियुक्ति पाकिस्तान के प्रधानमंत्री द्वारा की जाती है मगर ऐसा पहली बार हुआ है कि आई.एस.आई. प्रमुख की नियुक्ति आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा ने की है।

अगले पढ़ें पूरी खबर

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY