दिल्ली-NCR में देश की पहली ड्राइवरलेस रोप-वे मेट्रो चलेगी, 800 Cr में बनेंगे 12 स्टेशन


taxi-1-new_1475462145
इसमें पैसेंजर एक बिना ड्राइवर के पॉड (ट्रॉली) में चलेेंगे। ये पॉड रोपवे पर चलेंगे। (फाइल)

मोदी सरकार ने रोप-वे पर ट्रॉली की तरह चलने वाली पॉड टैक्सी के प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी है। ये प्रोजेक्ट दिल्ली-एनसीआर में लाया जाएगा। नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) के तहत ये काम शुरू होगा। 4 ग्लोबल फर्मों ने भी इसके लिए टेंडर भेजे हैं। ये पायलट प्रोजेक्ट 800 करोड़ रुपए का है। इसे पर्सनल रैपिड ट्रांजिट (पीआरटी) या मेट्रिनो के नाम से भी जाना जाता है।

क्या है मेट्रिनो प्रोजेक्ट…

– इसमें पैसेंजर एक बिना ड्राइवर के पॉड (ट्रॉली) में सफर करेंगे। ये पॉड रोपवे पर चलेंगे।
– 800 करोड़ का ये प्रोजेक्ट दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर एमएच-8 पर शुरू किया जाएगा। यह प्रोजेक्ट एनएच-8 से बादशाहपुर तक 12.3 किमी के दूरी के लिए होगा। यह राजीव चौक, इफ्को और सोहना रोड को भी कवर करेगा।
– एक स्ट्रेच में 12 स्टेशन बनाए जाएंगे। एक पॉड में 5 लोग बैठ सकेंगे। पब्लिक ट्रांसपोर्ट का ये प्रोजेक्ट 4 हजार करोड़ रुपए का है।
– पहले फेज में 70 किमी दूरी के धौला कुआं (दिल्ली) से मानेसर (हरियाणा) को कवर करने का प्लान है। इसका मकसद एनसीआर में ट्रैफिक का दबाव कम करना है।
– ये रोपवे सिस्टम पूरी तरह ऑटोमैटिक होगा। जमीन से इसकी ऊंचाई 5-10 मीटर होगी।

आगे पढें पूरी खबर