27 जुलाई को सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण, जानें किस राशि को क्‍या होगा असर


27 जुलाई आषाढ़ पूर्णिमा को सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण लगने जा रहा है। इस ग्रहण में पूरा चंद्र ब्लडमून में दिखेगा। ग्रहण की कुल अवधि 04 घटे 05 मिनट की होगी। इससे पहले 31 जनवरी को इस साल पूर्ण चंद्रग्रहण लगा था, जिसमें करीब 1 घटे 16 मिनट का खग्रास था। अब 27 और 28 जुलाई की मध्य रात्रि में लगने वाले चंद्रग्रहण में करीब 1 घटे 43 मिनट का खग्रास रहेगा।

दंडी स्वामी देवेश्वानंद तीर्थ ने कहा कि यह चंद्रग्रहण शुरू होने से अंत तक करीब 4.05 घंटे अर्थात 235 मिनट का रहेगा। खगोल वैज्ञानिक मान रहे हैं कि यह 21वीं सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण होगा। एशिया ही नहीं अन्य देशों में भी भी यह चंद्रग्रहण दिखेगा। ग्रहण एशिया, पाकिस्तान, श्रीलंका, न्यूजीलैंड, जापान, बेल्जियम, पुर्तगाल, इंग्लैंड, हंगरी, टर्की, जकार्ता, ग्रीस, इटली, म्यामार, स्पेन, ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस, रूस, चीन, ब्राजील, अर्जेटीना, यूरोप, अफ्रीका, दक्षिण अमेरिका, हिंद और अटलाटिक महासागर इत्यादि भागों में भी दिखाई देगा।

ज्योतिषाचार्य डॉ. सोनिया मौदगिल के अनुसार ग्रहण 27 जुलाई की मध्य रात्रि में 11 बजकर 54 मिनट पर आरंभ होगा। इसका मोक्ष काल यानी अंत 28 जुलाई की सुबह 3 बजकर 49 मिनट पर होगा। जिस राशि में चंद्रग्रहण होता है उस राशि के लोगों को कष्ट का सामना करना पड़ता है। ग्रहण मकर राशि में होने के कारण लोगों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

ग्रहण से जहां कई राशियों को अशुभ फल मिलने की आशंका है वहीं कुछ राशियों को लाभ और शुभ फल भी मिलने वाला है। ज्योतिषीय गणना के अनुसार मिथुन, तुला, वृश्चिक और मीन राशि के लिए यह ग्रहण शुभ रहेगा।

  • 231
    Shares

LEAVE A REPLY