पाकिस्तानी की असलीयत आई सामने – करतारपुर पर पाकिस्तानी विदेश मंत्री बोले, इमरान खान की गुगली में फंसा भारत


shah-mehmood-qureshi

करतारपुर कॉरिडोर की नींव रखने के मौके पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के साथ दोस्ती का हाथ बढ़ाने की बात कही थी, लेकिन अगले ही दिन वहां के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने अपने बयान से असलियत बयां कर दी है. इमरान की सरकार के 100 दिन पूरे होने के मौके पर पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि करतारपुर कार्यक्रम दरअसल, इमरान खान की गुगली थी. खास बात यह है कि जब कुरैशी यह बोल रहे थे तो इमरान कार्यक्रम में सबसे आगे बैठे उन्हें सुन रहे थे.

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने गुरुवार को कहा कि ऐतिहासिक करतारपुर गलियारे के शिलान्यास कार्यक्रम में भारतीय सरकार की मौजूदगी सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक ‘गुगली’ फेंकी. कुरैशी की यह टिप्पणी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के एक दिन पहले दिए गए बयान पर आई है, जिसमें उन्होंने पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय वार्ता को फिर से शुरू करने की संभावना को स्पष्ट रूप से यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि पाकिस्तान जब तक भारत के खिलाफ सीमा-पार से अंजाम दी जाने वाली आतंकवादी गतिविधियों को नहीं रोकता तब तक बातचीत संभव नहीं है.

पाकिस्तान ने इससे पहले बुधवार के कार्यक्रम में स्वराज को भी आमंत्रित किया था. लेकिन स्वराज ने पूर्व प्रतिबद्धताओं का हवाला देते हुए करतारपुर साहिब आने में असमर्थता जताई थी. इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्रियों – हरसिमरत कौर बादल और हरदीप सिंह पुरी ने भारत का प्रतिनिधित्व किया था. कुरैशी ने कहा कि करतारपुर सीमा का खुलना क्रिकेटर से नेता बने खान की सरकार की एक “बड़ी उपलब्धि” है. गुरुवार को खान नीत सरकार ने आम चुनावों को जीतने के बाद से अपने शुरुआती 100 दिन पूरे कर लिए. कुरैशी ने क्रिकेट की शब्दावली का इस्तेमाल करते हुए कहा, ‘इमरान ने एक गुगली डाली और भारत ने दो मंत्रियों को पाकिस्तान भेज दिया.’

Pakistan PM Imran Khan

इमरान ने करतारपुर में कश्मीर का जिक्र किया, भारत ने जताया कड़ा एतराज

भारत ने बुधवार को करतारपुर कॉरिडोर समारोह में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा कश्मीर का मुद्दा उठाए जाने पर कड़ा एतराज जताया है और कहा कि यह ‘अनुचित’ था और उन्होंने इस पवित्र अवसर का राजनीतिकरण करने का काम किया. भारत ने यह भी कहा कि जम्मू एवं कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता से इस बारे में पूछे जाने पर कहा, “यह काफी खेदजनक है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने इस पवित्र अवसर का प्रयोग राजनीतिकरण करने के लिए किया. सिख समुदाय की लंबित मांग करतारपुर कॉरिडोर के समारोह में जम्मू एवं कश्मीर का अनुचित संदर्भ दिया गया, जोकि भारत का अभिन्न अंग है. प्रवक्ता ने कहा, “पाकिस्तान को यह याद रखना चाहिए कि वह अपनी अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं को अवश्य पूरा करे और अपनी सीमाओं के अंदर हर तरह के आतंकवाद को बढ़ावा और पनाह देना बंद करे.

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY